अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो पुस्तक व्यंग्य में एक तरह से नया प्रयोग है: डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी

अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो पुस्तक व्यंग्य में एक तरह से नया प्रयोग है: डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी

भोपाल। स्वामी विवेकानंद लाइब्रेरी में सुदर्शन सोनी की पुस्तक अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो का विमोचन किया गया। व्यंग्यकार डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी के मुख्य आतिथ्य में आयोजित एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में मकरंद देऊस्कर आईजी इंटेलीजेंस तथा वरिष्ठ व्यंग्यकार शांतिलाल जैन उपस्थित थे। इस मौके पर मुख्य अतिथि डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी ने कहा कि सुदर्शन की वर्तमान पुस्तक व्यंग्य में एक नया प्रयोग कह सकते है। उन्होंने दो चार नही पूरे चौंतीस व्यंग्य कुत्तों पर लिख डाले। व्यंग्य अपने आप में मजेदार है। अब जिसे सुदर्शन से ईष्या करना हो करे। हां, जब वे पच्चीस से अधिक सालों से कुत्तापालन कर रहे हो तो इस खतरे का आभास तो हम सबको था कि वे किसी दिन ऐसा कोई व्यंग्य संग्रह लेकर आएंगे। यह एक कुत्तामय व्यंग्य संग्रंह है। कुत्ते को उन्होंने कई कोणों से जांचा परखा फिर लिखा।