आंखों का चश्मा हटाने की अत्याधुनिक तकनीक स्माइल इंदौर में भी हुई शुरू

आंखों का चश्मा हटाने की अत्याधुनिक तकनीक स्माइल इंदौर में भी हुई शुरू

इंदौर। चश्मा पहनते-पहनते आप ऊब गए हों तो आप भी मॉडर्न टेक्नोलॉजी पर भरोसा कर सकते हैं। सेंटर फॉर साइट द्वारा आंखों का चश्मा हटाने की अत्याधुनिक तकनीक ‘स्माइल’ की शुरुआत की गई है। सेंटर फॉर साइट के चीफ डॉ. महिपाल सचदेव का कहना है स्माइल ऐसी तकनीक है जो चश्मे उतारने में काफी कारगर साबित हो रही है। शनिवार को सेंटर फॉर साइट के विजयनगर स्थित केंद्र पर इस तकनीक का शुभारंभ स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद विवेक तन्खा द्वारा नेत्र विशेषज्ञों की टीम की उपस्थिति में किया गया। डॉ. सचदेव ने कहा कि स्माइल परंपरागत लेसिक तकनीक से काफी उन्नत है। यह प्रक्रिया पूरी तरह कम्प्यूटरराइज्ड है, 100 प्रतिशत लेंजर, ब्लेड फ्री एवं फ्लैप फ्री है। इससे पतले कॉर्निया वाले एवं उच्च पॉवर वाले मरीजों का इलाज भी संभव है। डॉ. प्रतीप व्यास ने बताया कि दृष्टि सुधार प्रक्रिया की यह तीसरी नवीनतम तकनीक है। साधारण लेसिक की तुलना में यह तकनीक चश्मा उतारने के लिए बेहतर है। उन्होंने बताया कि हर साल इंदौर में ही आंखों से चश्मा उतरवाने के लिए 2500 आॅपरेशन हो रहे हैं, जिनमें से ज्यादातर युवा है। डॉ. शरदिनी व्यास ने स्माइल के लाभ बताते हुए कहा कि यह तकनीक ब्लेडरहित फेम्टो लेसिक से बेहतर है, क्योंकि μलैप निर्मित नहीं किया जाता इसलिए फ्लैप संबंधित कोई खतरा नहीं होता।