चिकने टायर ने कराया हादसा, नाले में गिरी बस

चिकने टायर ने कराया हादसा, नाले में गिरी बस

जबलपुर। प्रयाग राज कुंभ से तीर्थ यात्रियों को लेकर आ रही निजी ट्रेवल्स की बस नगर की सीमा पर अधारताल थानांतर्गत करौंदा नाला में अनियंत्रित होकर गिर गई। दरअसल बस का एक टायर रिमोल्डिंग वाला तथा एक अन्य चिकना टायर था। पुलिया पर गड़ढ़े एवं गिटटी से टायर फट गया और बस बहक कर नाले में समा गई। जानकारी के अनुसार बस में 55 से अधिक यात्री शराब थे, बस के नाले पर गिरने पर अंधेरे में यात्रियों की चीख-पुकार से इलाका दहल उठा। दुर्घटना में जहां 3 लोगों की मौत हुई, वहीं 50 लोग घायल हुए है। इसमें से 10 को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई है। ढाबा संचालक पहुंचा पहले समीप ही स्थित ढाबे का संचालक सोनू रात करीब 3.30 बजे वे अपने घर को जा रहे थे तभी पुलिया से बम फटने जैसी तेज आवाज आई। दरअसल ये आवाज बस का पिछला टायर फटने से आई थी। इसके कुछ देर बाद बस पुलिया से नीचे गिरने की तीव्र आवाज आई। इस ढाबा संचालक तत्काल मौके पर पहुंचा तथा लोागों को एकत्र कर तत्काल बस में फंसे यात्रियों को निकालना शुरू किया। वहीं 108 एम्बुलेंस को बुलवाकर घायलों को रवाना किया गया। इस दौरान घायलों की कराह यहां गूंजती रही।

10 मिनट में पहुंची

पुलिस यह भी संयोग रहा कि घटना की सूचना मिलने के 10 मिनिट बाद ही पुलिस भी मौेके पर पहुंच गई जिससे घायलों को तत्काल मदद संभव हो गई । बड़ी मशक्कत के साथ घायलों को बाहर निकालने रेस्क्यू प्रारंभ कर दिया गया।

अलग-अलग अस्पताल भेजे

दुर्घटना में करीब 50 लोगों को चोट आई थी। उन्हें विभिन्न साधनों से मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल, जबलपुर हॉस्पिटल एवं विक्टोरिया हॉस्पिटल भेजा गया। लोगों की माने तो चालक ने शराब पी रखी थी और तेज रफ्तार से वाहन चला रहा था जबकि यात्री भी नींद में ऊंग रहे थे जिससे उन्हें वाहन बेहद तेज रफ्तार होने का एहसास नहीं हो सका।

शनिवार को निकली थी बस

पुलिस ने बताया कि पूजा ट्रेवल्स की बस क्रमांक यूपी 70 ईटी 5618 प्रयागराज कुंभ से यात्रियों को लेकर नागपुर जाने शनिवार को देर शाम निकली थी। रात करीब साढ़े 3 बजे करौंदा नाले पर दुर्घटना हुई।

3 क्रेन से निकाली गई

नाला में गिरी बस को निकालने के लिए पुलिस लाइन से सुबह 3 क्रेने बुलाई गई। क्रेन पायलटों ने एक घंटे प्रयास कर बस को निकाला। इस दौरान बस में फंसा एक शव पुलिस को मिला।

1500 ले लिए अस्पताल में

यात्री चंद्रशेखर शर्मा निवासी बेल्लारी कर्नाटक ने बताया कि हादसे के बाद उन्हें एम्बूलेंस से प्राइवेट अस्पताल भेजा गया था। अस्पताल में एक्सरे के लिए 1500 रुपए जमा कराने के अस्पताल वालों ने उसे विक्टोरिया अस्पताल रेफर कर दिया और रुपए भी नहीं लौटाए। यात्री ने बताया कि दुर्घटना में उसकी पत्नी ऊषारानी शर्मा भी घायल हुई है।