चीन में बोलीं सुषमा स्वराज- जैश कर रहा था और हमले की तैयारी, इसलिए हमने की कार्रवाई

चीन में बोलीं सुषमा स्वराज- जैश कर रहा था और हमले की तैयारी, इसलिए हमने की कार्रवाई

वुझेन (चीन)। भारत की ओर से पीओके में जैश-ए- मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक करने के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को चीन के वुझेन में बड़ा बयान दिया। चीनी विदेश मंत्री वॉन्ग ली और रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के सामने सुषमा स्वराज ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले को पाकिस्तान से चलने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने अंजाम दिया था, जिसका जवाब भारत ने दिया है। बुधवार सुबह विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने वुझेन में चीन के विदेश मंत्री वॉन्ग ली और रूसी विदेश मंत्री से मुलाकात की। उल्लेखनीय है कि सुषमा बुधवार को रूस, भारत और चीन (आरआईसी) के विदेश मंत्रियों के बीच 16वीं बैठक में हिस्सा लेने चीन के वुझेन में पहुंची। यहां उन्होंने पुलवामा में हुए आतंकी हमले का जिक्र किया और कहा भारत आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति रखता है। विदित है कि पाकिस्तान का निकट सहयोगी चीन जैश के प्रमुख मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र में वैश्विक आतंकवादी करार देने के भारत के प्रयासों को बार बार नाकाम कर चुका है। वांग के साथ सुषमा की यह बैठक इस पृष्ठभूमि में और भी अहम हो जाती है।

पाक ने नहीं उठाया था जैश के खिलाफ कदम

भारत की एयरस्ट्राइक का जिक्र करते हुए सुषमा स्वराज ने कहा, मेरा चीन का दौरा ऐसे समय पर हो रहा है जब भारत दुख और गुस्से से भरा हुआ है। कुछ दिन पहले ही जम्मू-कश्मीर में एक बड़ा आतंकी हमला हुआ था। सुषमा ने कहा कि इस आतंकी हमले को पाकिस्तान से चलने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने अंजाम दिया था, जिसका जवाब भारत ने दिया है। सुषमा ने चीन को बताया कि जब पाकिस्तान ने जैश के खिलाफ कोई कड़ा कदम नहीं उठाया, तो भारत ने ऐसा कर दिया। उन्होंने कहा, पाकिस्तान लगातार आतंकी संगठनों को पनाह देने की बात नकारता रहता है, इसी बीच हमें खबर मिली कि जैश भारत में और आतंकी हमले करने की फिराक में है, जिसके बाद भारत सरकार ने उसके खिलाफ कार्रवाई का फैसला किया, हमने इस तरह से लक्ष्य निर्धारित किया कि आम लोगों को कोई नुकसान न पहुंचे।

ह सैन्य अभियान नहीं था

सुषमा स्वराज ने कहा, यह सैन्य अभियान नहीं था, इस हमले में किसी सैन्य प्रतिष्ठान को निशाना नहीं बनाया गया। हमारा लक्ष्य जैश के आतंकी ठिकानों को निशाना बनाना था। भारत हालात को और बिगड़ता नहीं देखना चाहता। हम जिम्मेदारी और संयम के साथ काम करना जारी रखेंगे।

सभी देश आतंक के खिलाफ कार्रवाई करें सुषमा स्वराज ने कहा, पुलवामा में हमारे सुरक्षाबलों पर आतंकी हमला हुआ जिसमें 40 जवान मारे गए। अब वक्त आ गया है कि सभी देश आतंक के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाते हुए उसके खिलाफ निर्णायक कार्रवाई करें।

चीन ने पाक को दिया झटका, कहाआतंकियों की मदद बंद करे

बैठक के बाद चीन ने भी पाकिस्तान से अपना पल्ला झाड़ते हुए और भारत का सहयोग करते हुए कहा, हम आतंकवाद और कट्टरपंथ की जमीन को खत्म करने में सहयोग करेंगे। इसी के साथ राजनयिकों ने कहा कि पुलवामा हमले के बाद हो सकता है कि चीन पाकिस्तान को किसी तरह की कोई सहायता ना दे। साथ चीन यह भी कह सकता है कि वह पाकिस्तान को केवल आर्थिक मोर्चे पर लिमिटेड साथ दे सकता है।

जैश को बैन करने फ्रांस करेगा समर्थन

फ्रांस ने सीमापार आतंकवाद के खिलाफ अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए भारत की कार्रवाई को मान्यता दी और पाक से कहा कि वह अपनी सीमा में आतंकी आॅपरेशनों पर लगाम लगाए। फ्रांस आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत का समर्थन कर रहा है, वहीं यूएन में जैश-ए- मोहम्मद को प्रतिबंधित करने के लिए फ्रांस प्रस्ताव पेश करेगा।

पाक ने उड़ाया एफ16 विमान, अमेरिका ने मांगा जवाब

बुधवार सुबह पाक ने वायु सीमा का उल्लंघन करके भारतीय सीमा में एफ-16 लड़ाकू विमान से हमला करना चाहा पर जवाबी कार्रवाई में भारतीय वायुसेना ने एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया। इस मामले में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के अधिकारियों ने पाक सरकार से सवाल पूछा कि उसने बिना अनुमति के एफ-16 विमान का प्रयोग सैन्य कार्रवाई के लिए क्यों किया।

अमेरिका ने ही दिया है एफ16 लड़ाकू विमान

एफ-16 लड़ाकू विमान पाकिस्तान को अमेरिका ने ही दिया है। ऐसे में विमान का इस्तेमाल अमेरिका के नियमों के मुताबिक ही होना चाहिए। अमेरिकी नियमानुसार एफ-16 लड़ाकू विमान का इस्तेमाल आत्मरक्षा के लिए कर सकते है, हमले के लिए नहीं।