निगम की जनसुनवाई आज से पुराने कक्ष में, बचेगा खर्च

निगम की जनसुनवाई आज से पुराने कक्ष में, बचेगा खर्च

इंदौर। विधानसभा चुनाव के बाद फिर शुरू की गई निगम की जनसुनवाई अपनी पुरानी परम्परा पर लौट रही है। आज से यह एनआरवाय कक्ष में न होकर अपने मूल स्थान पर होगी। इससे निगम को 25 हजार रुपए खर्च से निजात मिल जाएगी। सभी प्रमुख अधिकारी कक्षों में बैठकर शिकायतें सुन रहे थे। निगम में कई अधिकारियों के दो- तीन कक्ष हैं। आमजन को अधिकारियों के बैठक कक्ष की जानकारी भी कम है। ऐसे में शिकायतकर्ता भटकने पर मजबूर रहता है। इस व्यवस्था को दुरुस्त कराने नेता प्रतिपक्ष ने पिछले दिनों तत्कालीन संभागायुक्त राघवेन्द्र सिंह को लिखित शिकायत की थी। उनके आदेश पर जनसुनवाई शुरू की गई थी। 

पुराने कक्ष में जगह का अभाव

जनसुनवाई पुराने कक्ष में बंद होने से वहां एनआरवाय प्रभारी नरेन्द्र शर्मा का चेम्बर बन गया है। कक्ष में जगह का अभाव होने से निगम ने एनआरवाय में जनसुनवाई शुरू की थी। इस पर निगम का 25 हजार रुपए खर्च हो रहा था। एक माह में चार- पांच जनसुनवाई से उसे एक से सवा लाख रुपए खर्च उठाना पड़ता। इस खर्च को बचाने निगम ने तय किया कि पुराने कक्ष में जनसुनवाई होगी। 

इस पर खर्च