पर्चा अर्थशास्त्र का, सवाल वन का, जवाब मोहब्बत का पैगाम

पर्चा अर्थशास्त्र का, सवाल वन का, जवाब मोहब्बत का पैगाम

इंदौर। माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) की बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियों की जांच चल रही है। मूल्यांकनकर्ताओं को जांच के दौरान कुछ कॉपियां ऐसी मिलीं, जिन्हें देख वे हतप्रभ रह गए। दरअसल, इन कॉपियों में छात्रों ने उत्तर की जगह शायरी, इजहार-ए-मोहब्बत, शादी की बात जैसी बातें लिखी हैं। मूल्यांकनकर्ताओं ने ऐसे वाक्यों को मार्क किया हुआ है ताकि यदि कॉपी की दोबारा जांच हो, तो यह बातें सामने आ सकें। जानकारी के लिए बता दें कि शहर के मालव कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, मोती तबेला में जिलेभर की 10वीं और 12वीं की कॉपियों का मूल्यांकन किया जा रहा है। 

12वीं की बालिका बोली, पास नहीं हुई तो रुक जाएगा ब्याह

12वीं अर्थशास्त्र के पेपर में हरियाली का महत्व बताते-बताते एक छात्र आशिकाना हो उठा। वनों की शृंखला का महत्व बताते हुए छात्र ने कॉपी में प्यार की परिभाषा बता दी। उसने न केवल प्यार के बारे में लिखा, बल्कि प्यार कैसे करना चाहिए और सच्चा प्यार क्या है, यह भी बता दिया। कॉपी में उसने लिखा ‘मोहब्बत एक से होती है, हजारों से नहीं, जो एक को छोड़ दूसरे के पास जाता है, वह मोहब्बत नहीं है....।’ 

शायरी के जरिए लगाई पास करने की गुहार

‘मेरी शायरी होती है कुछ इस तरह, कॉपी में अच्छे अंक जंचते है जिस तरह, नंबरों का क्या मोह शून्य के आगे 6 लगा देना, शायरी अच्छी लगे, तो पास कर देना’। यह शायरी 10वीं के एक छात्र ने एक पेपर की कॉपी में लिखी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, छात्र ने अपने अंग्रेजी के पेपर में आधे से ज्यादा प्रश्नों के जवाब में शायरियां लिखी थीं, जिसे पढ़कर मूल्यांकन कर्ता भी हंस पड़े। 

सास ने कहा, 12वीं पास कर ले, तभी बनेगी बहू

‘मेरी शादी तय हो चुकी है, पिछली बार मैं 12वीं में फेल हो गई थी, इस बार पास कर देना, नहीं तो शादी टूट जाएगी। मेरी सास का कहना है कि 12वीं करो, तभी बहू बनाएंगे। आपको मातारानी की कसम, पास कर देना, बस यही पेपर खराब हुआ है।’ यह सब एक छात्रा ने अपनी कॉपी में लिखा। उसने कॉपी में मूल्यांकनकर्ता से उसे पास कर देने की गुहार लगाते हुए अपनी शादी का हवाला दिया।