बदलते मौसम से सर्दी-जुकाम वायरल बुखार के मरीज बढ़े

बदलते मौसम से सर्दी-जुकाम वायरल बुखार के मरीज बढ़े

इंदौर। सुबह और रात की सर्दी और दिन में गर्मी के साथ बदल रहे मौसम के मिजाज मौसमी बीमारियों के मरीजोें का आंकड़ा बढ़ गया है। सरकारी अस्पतालों सहित निजी अस्पतालों में बड़ी संख्या में सर्दी-खांसी, जुकाम सहित मौसमी बीमारियों के मरीज पहुंच रहे हैं। डॉक्टरों ने इस मौसम में लोगों को सतर्कता बरतने की सलाह दी है। एमवायएच सहित जिला अस्पताल की ओपीडी में हर रोज वायरल फीवर, बुखार, सर्दीजुका म से ग्रस्त लगभग 550 से 700 मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। प्रतिदिन अस्पतालों की ओपीडी में इलाज कराने वालों की भीड़ देखी जा सकती है। इस मौसम में जरा सी लापरवाही में बच्चे और बड़े बीमार हो रहे हैं। बच्चों में खांसीजुका म, बुखार के साथ छाती जाम होने की शिकायत आ रही है। बुजुर्गों को सांस लेने की दिक्कत हो रही है। चिकित्सकों के अनुसार दोपहर में गर्मी और रात में सर्दी के कारण मरीजों की संख्या बढ़ी है। मौसम परिवर्तन के साथ ही खान-पान में सावधानी नहीं बरतना भी बीमारी का कारण है। 

बच्चों की सेहत का खास ध्यान रखने की सलाह

मौसम में हो रहे परिवर्तन के कारण छोटे बच्चों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। चिकित्सकों के अनुसार मौसम परिवर्तन के कारण अभिभावकों को उनके बच्चों को पानी उबालकर या फिल्टर करके देना चाहिए। छोटे बच्चों के गीले कपड़े समय पर बदलते रहें, जिससे बच्चों को सर्दी-जुकाम व खांसी से बचाया जा सके। रात में बच्चों को मच्छरों से बचाव के लिए हल्की चद्दर आदि ओढ़ाकर रखें। तली-गली और डिब्बा बंद खाद्य सामग्री के उपयोग से बचें। 

अस्पतालों की स्थिति