‘शक्ति’ पर सियासत; राहुल बोले थियेटर डे पर मोदीजी को बधाई

‘शक्ति’ पर सियासत; राहुल बोले थियेटर डे पर मोदीजी को बधाई

नई दिल्ली। भारत के मिशन शक्ति को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित किया। इसे लेकर सियासत तेज हो गई। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, प्रियंका वाड्रा से लेकर, सपा प्रमख अखिलेश यादव, ममता बनर्जी ने भी सवाल उठाए। राहुल ने मोदी पर तंज कसते हुए कहा- वर्ल्ड थियेटर डे की बधाई। पार्टियों ने कहा- प्रधानमंत्री इस मिशन का राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश कर रहे हैं। यह प्रोजेक्ट को यूपीए के कार्यकाल 2012 के समय से चल रहा था।

जेटली बोले यूपीए सरकार ने तब नहीं दी थी अनुमति

विपक्ष के हमले पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि ‘जो लोग नाकामियां के लिए अपनी पीठ थपथपाते हैं, उन्हें याद रहना चाहिए कि पिछली संप्रग सरकार में डीआरडीओ की क्षमता पर भरोसा नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि जब अग्नि 5 परीक्षण हुआ था तो 21 अप्रैल 2012 को प्रकाशित एक साक्षात्कार में प्रसिद्ध वैज्ञानिक वी के सारस्वत ने कहा था कि हमारे पास ऐसी इच्छा और क्षमता है, लेकिन सरकार अनुमति नहीं दे रही।

चुनाव आयोग ने मोदी की ट्रांसक्रिप्ट सरकार से मांगी

डीआरडीओ की उपलब्धि पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया। इसकी शिकायत चुनाव आयोग से की गई थी। प्रधानमंत्री के संबोधन के बाद सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने चुनाव आयोग में शिकायत भेजी थी। इस पर संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संदेश की ट्रांसक्रिप्ट सरकार से मांगी है। आयोग देखेगा कि इसमें कहीं चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन तो नहीं किया गया।

इस उपलब्धि पर नेताओ ने वैज्ञानिकों को दी बधाई

प्रधानमंत्री को वर्ल्ड थियेटर थे पर बधाई

‘वेल डन डीआरडीओ, आपकी इस उपलब्धि पर हमें बहुत गर्व है। मैं प्रधानमंत्री को वर्ल्ड थिएटर डे की बहुत-बहुत बधाई देना चाहता हूं।’ राहुल गांधी

 

मोदी के संदेश पर आयोग संज्ञान ले

भारतीय रक्षा वैज्ञानिकों के लिए अनेकों बधाई। लेकिन इसकी आड़ में मोदी द्वारा चुनावी लाभ की राजनीति करना गलत है। चुनाव आयोग को इस पर संज्ञान लेना चाहिए। - मायावती

 

क्या मोदी कभी अंतरिक्ष गए हैं

यह राजनीतिक ऐलान था, वैज्ञानिकों को यह घोषणा करनी थी। केवल एक सैटेलाइट नष्ट किया गया। मोदी को क्या जरूरत थी कि क्रेडिट लें। क्या वे कभी अंतरिक्ष गए हैं। - ममता बनर्जी

 

असल मुद्दों से ध्यान भटका रहे मोदी आज मोदी

घंटे भर मुμत में टीवी पर रहे और आकाश की ओर इशारा करके राष्ट्र के जमीनी मुद्दों बेरोजगारी, महिला सुरक्षा और ग्रामीण हालत से ध्यान भटका रहे हैं। - अखिलेश यादव

इधर, इसरो के पूर्व चेयरमैन ने भी की तारीफ

एंटी सैटेलाइट मिसाइल की क्षमता एक दशक पहले से ही थी, लेकिन इसे पूरा करने की राजनीतिक इच्छा शक्ति नहीं थी। चीन ने 2007 में इस तरह की मिसाइल का परीक्षण किया था। उस समय ऐसी ही तकनीकि भारत के पास भी थी। मोदी ने इसकी पहल की। उनमें राजनीतिक इच्छा शक्ति और साहस था कि वे कह सकें कि हम इसे पूरा करेंगे। अब हमने पूरी दुनिया को दिखा दिया। -जी माधवन नायर, इसरो के पूर्व चेयरमैन