सरकार का लक्ष्य देश को इलेक्ट्रॉनिक्स हब बनाना

सरकार का लक्ष्य देश को इलेक्ट्रॉनिक्स हब बनाना

नई दिल्ली। सरकार की ओर से पेश की गई नई योजनाएं देश में न सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों के विनिर्माण को बढ़ावा देने पर ध्यान देंगी, बल्कि देश को निर्यात केंद्र के रूप में स्थापित करने का भी काम करेंगी। एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने सोमवार को यह बात कही। इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण शिखर सम्मेलन 2019 में बोलते हुए इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी सचिव अजय प्रकाश साहनी ने कहा कि देश में इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण तंत्र को मजबूत किया गया है। यह सम्मेलन सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार क्षेत्र के शीर्ष संगठन एमएआईटी ने आयोजित किया है। उन्होंने कहा कि विभिन्न ब्रांड भारत में आकर अपना विनिर्माण केंद्र स्थापित कर रहे हैं। इसके अलावा उनके आपूर्ति श्रृंखला भागीदारों ने भी विनिर्माण क्षेत्र में भाग लेना शुरू कर दिया है। साहनी ने कहा, मेरा मानना है कि हमें सिर्फ विनिर्माण पर ही ध्यान नहीं देना है बल्कि इस समय निर्यात पर भी ध्यान देना है। पुरानी योजनाओं की जगह चलाई गई हमारी कई नई योजनाएं निर्यात पर ध्यान देंगी। हम आपूर्ति साझेदारों को लाने पर ध्यान देंगे। अधिकारी ने कहा कि कई बहु-राष्ट्रीय कंपनियां अपनी भारतीय इकाइयों का उपयोग नए उत्पादों एवं सेवा के शोध एवं विकास (आरएंडडी) तथा डिजाइन के लिए कर रही हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण तंत्र तेजी से बढ़ रहा है, यह एक जबरदस्त अवसर है। साहनी ने कहा, हमारे लिए सिर्फ यह जरूरी नहीं है कि हम विनिर्माण करें बल्कि वैश्विक तंत्र का हिस्सा बनना भी जरूरी है। भारत में सिर्फ एसेंबलिंग होना जरूरी नहीं है बल्कि वैश्विक आपूर्ति शृंखला के साथ कैसे बेहतर तरीके से जुड़ सकते हैं और इस दिशा में बढ़ने के लिए क्या कर सकते हैं, यह भी जरूरी है।