कम उम्र में हो रहा पेट का कैंसर, 30% का ही इलाज संभव

कम उम्र में हो रहा पेट का कैंसर, 30% का ही इलाज संभव

वाशिंगटन पेट के शुरुआती कैंसर पर हुए शोध में पता चला है कि 60 वर्ष से कम उम्र के लोगों में ये अलग रूप में सामने आती है। अमेरिका के न्यू मेयो क्लीनिक द्वारा बुजुर्ग लोगों में पेट के कैंसर को लेकर शोध में पता चला है कि इसकी शुरुआत तेज होती है। फैलती भी तेजी से है जिसका इलाज कठिन है। इसमें कीमोथैरेपी भी असर नहीं करती है। जर्नल सर्जरी में प्रकाशित इस शोध के अनुसार कम उम्र में पेट का कैंसर तेजी से बढ़ रहा है जिसमें 30 फीसदी पेट के कैंसर का ही इलाज संभव है। वहीं अधिक उम्र के लोगों में पिछले एक दशक में पेट के कैंसर के मामले में कमी दर्ज की जा रही है। वरिष्ठ शोधकर्ता और सर्जिकल आॅन्कोलॉजिस्ट प्रो. ट्रेविस ग्रोट्ज का कहना है कि ये चेतावनी है क्योंकि पेट का कैंसर खतरनाक रोग है। वे कहते हैं कि बहुत से लोगों को पेट के कैंसर के लक्षणों के बारे में नहीं पता है। इसका नतीजा ये है कि युवाओं में इस बीमारी का पता देर में चलता है और उस वक्त उतना कारगर इलाज संभव नहीं है।

70 की बजाए 30 से 40 की उम्र में कैंसर

डॉ. ग्रोट्ज बताते हैं कि पेट के कैंसर का पता अमूमन 70 की उम्र में चलता था। अब इसके मामले में बढ़ोतरी के साथ ये बीमारी 30 से 40 की उम्र में भी होने लगी है। ग्रोट्ज का कहना है कि कम उम्र में होने वाला कैंसर घातक होने के साथ आनुवांशिक रूप से अलग है।

पेट के कैंसर रोगी की औसत उम्र 68 साल

अध्ययनों के अनुसार पेट के कैंसर से ग्रसित रोगी की औसत उम्र करीब 68 साल होती है। फिर भी ये साफ नहीं है कि कम या अधिक उम्र में होने वाले पेट के कैंसर से ग्रसित रोगी की औसत उम्र क्या होती है लेकिन 40,50 या 60 की उम्र को प्राथमिकता दी जा रही है।

देर से शुरू होने वाले कैंसर मामले में कमी

शोधकर्ताओं ने 1973 से 1995 के बीच देर से शुरू होने वाले पेट के कैंसर में 1.8 फीसदी और जल्दी शुरू होने वाले पेट के कैंसर के मामलों में 1.9 फीसदी की गिरावट दर्ज की, लेकिन 2013 के मध्य से इसमें 1.5 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज हुई है।

खाना खत्म होने से पहले पेट तो नहीं भर जाता

कम उम्र के लोगों में पेट के कैंसर के मामले को लेकर फिजिशियन चिकित्सकों पर जिम्मेदारी बढ़ेगी। युवा लोग जो प्लेट का खाना खत्म होने से पहले ही कहने लगते हैं कि उनका पेट भर गया है, खाना डकार से वापस आता है, पेट में दर्द रहता है, वजन घट रहा है तो बिना देर किए अपने चिकित्सक से मिलें और राय लें।