सालाना रिपोर्ट में खुलासा : कमाई बढ़ाने के चक्कर में गुणवत्ता भूली कंपनी, बाबा रामदेव की पतंजलि की बिक्री में आई 10% की गिरावट

सालाना रिपोर्ट में खुलासा : कमाई बढ़ाने के चक्कर में गुणवत्ता भूली कंपनी, बाबा रामदेव की पतंजलि की बिक्री में आई 10% की गिरावट

नई दिल्ली। पिछले पांच वर्षों में भारतीय बाजार में तेजी से चमकी योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि को बड़ा झटका लगा है। कुछ समय पहले तक उसके हर्बल प्रोडक्ट्स की मार्केट में धूम थी। इस दौरान कंपनी ने व्यापार बढ़ाने के लिए काम बढ़ाया। लेकिन अब उसकी बिक्री में करीब 10 फीसदी की गिरावट आई है। यह जानकारी पतंजलि की सालाना वित्तीय रिपोर्ट में सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रामदेव ने 2017 में उम्मीद जताई थी कि मार्च 2018 तक कंपनी की बिक्री दोगुनी से भी ज्यादा होकर 20,000 करोड़ रुपए पहुंच जाएगी। लेकिन, बढ़ने की बजाय पतंजलि बिक्री में 10% घटकर 8,100 करोड़ रुपए रह गई। विश्लेशकों का कहना है कि पिछले वित्त वर्ष 2018-19 में भी पतंजलि की बिक्री में और भी ज्यादा कमी आई होगी। केयर रेटिंग्स ने इस साल अप्रैल में बताया था कि 31 दिसंबर 2018 तक की तीन तिमाही में पतंजलि ने सिर्फ 4,700 करोड़ रुपए के उत्पाद बेचे थे। 

बिक्री पर नजर रखने के की कमी

एक पूर्व कर्मचारी के मुताबिक ट्रांसपोर्टर्स के साथ लंबी अवधि की डील नहीं होने से पतंजलि की योजना उलझ गई और लागत बढ़ गई। एक अन्य पूर्व कर्मचारी ने कहा कि पतंजलि के पास बिक्री पर नजर रखने वाले सॉμटवेयर की भी कमी है। 

तेजी से विस्तार के चलते गुणवत्ता पर नहीं दिया ध्यान

रिपोर्ट के मुताबिक पतंजलि के मौजूदा और पूर्व कर्मचारियों, सप्लायलर्स, डिस्ट्रीब्यूटर्स, स्टोर मैनेजर और उपभोक्ताओं का कहना है कि गलत फैसलों की वजह से कंपनी की बिक्री में कमी आई है। तेजी से विस्तार करने की वजह से पतंजलि ने गुणवत्ता बरकरार रखने पर ध्यान नहीं दिया। 

हमने समाधान कर लिया

तेजी से विस्तार की वजह से कुछ शुरुआती दिक्कतें आर्इं, जो अब खत्म हो चुकी हैं। हमने अचानक तीन से चार नई यूनिट शुरू कीं, इसलिए समस्याएं आनी थीं। हमने नेटवर्क की दिक्कत का समाधान कर लिया है। आचार्य बालकृष्ण, (कंपनी के 98.55% शेयर इनके पास हैं)