100 से अधिक साधु-साध्वी साथ चलेंगे सिद्धाचल तीर्थ यात्रा में

100 से अधिक साधु-साध्वी साथ चलेंगे सिद्धाचल तीर्थ यात्रा में

इंदौर   जैन समाज के प्रमुख तीर्थ पालीताणा के लिए इंदौर सिद्धाचल महासंघ समिति के तत्वावधान में नवकार परिवार के सहयोग से करीब 36 वर्षों बाद बहुप्रतीक्षित सिद्धाचल तीर्थयात्रा 8 फरवरी को सुबह 6 बजे रेसकोर्स रोड स्थित आराधना भवन से प्रारंभ होकर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में भ्रमण के बाद ह्रींकारगिरि की तलहटी में विशेष रूप से बनाई गई नगरी तक पहुंचेगी। पालीताणा की कुल यात्रा 600 किमी होगी। यात्रा में 140 महिलाओं और बच्चों सहित करीब 450 श्रद्धालु शामिल होंगे, जो 17 मार्च को पालीताणा पहुंचकर भगवान आदिनाथ से समाज और राष्टÑ में सुख-शांति और समृद्धि की प्रार्थना करेंगे। यात्रा में पालीताणा तक 100 से अधिक साधु-साध्वी भगवंत भी निश्रा प्रदान करेंगे। गुरुवार को रेसकोर्स रोड के मोहता भवन पर जैनाचार्य बंधु बेलड़ी आचार्य जिनचंद्रसागरजी की निश्रा में इस यात्रा में सहयोग देने वाले शहर के 32 संघपतियों का बहुमान किया गया। इस दौरान भक्ति संगीत के बीच दादा आदिनाथ की आराधना में सैकड़ों श्रद्धालु झूमते रहे। आचार्यश्री ने अपने आशीर्वचन में कहा कि सिद्धाचल की तीर्थयात्रा केवल यात्रा नहीं, बल्कि भगवान की प्राण-प्रतिष्ठा अपने हृदय में करने का पुरुषार्थ है। इस यात्रा के दर्शन करने मात्र से ही जन्म-जन्मांतर के कर्मों का क्षय हो सकता है। इंदौर के लिए यह अत्यंत सौभाग्य का स्वर्णिम अवसर है। शहर में भ्रमण कार्यक्रम- शुक्रवार को सुबह 4 बजे रेसकोर्स रोड पर संघपतियों की स्थापन विधि के बाद सुबह 6 बजे आराधना भवन से विशाल संघ प्रस्थित होकर मुख्य लाभार्थी कोचर परिवार के स्नेहलतागंज स्थित निवास, वहां से रामबाग होते हुए पीपली बाजार स्थित उपाश्रय पहुंचेगा।