पीएस के निर्देश पर बेस बनाने उखड़ने लगी 1600 एमएम की पाइप लाइन

पीएस के निर्देश पर बेस बनाने उखड़ने लगी 1600 एमएम की पाइप लाइन

ग्वालियर ।  तिघरा से मोतीझील तक आने वाली 1600 एमएम पाइप लाइन के नीचे बेस बनाने के लिए पाइप उखाड़ने का सिलसिला शुरू हो गया है, क्योंकि नगरीय प्रशासन विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे ने बेस डालने के निर्देश दिए थे। कार्य की गुणवत्ता पूर्ण कार्य को जांचने के लिए अधीक्षण यंत्री आरएलएस मौर्य मौके पर पहुंचे। अमृत योजना के तहत जलालपुर पर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट बनाया जा रहा है। इस ट्रीटमेंट प्लांट तक पानी लाने के लिए तिघरा से 1600 एमएम की पाईप लाईन बिछाने का कार्य मैसर्स झांसी क्रांकीट उद्योग नामक कंपनी द्वारा किया जा रहा है। कंपनी को अब तक 85 प्रतिशत कार्य पूरा करना चाहिए था, लेकिन लापरवाही के चलते लगभग 40 प्रतिशत कार्य ही पूर्ण हुआ है। 27 मार्च को नगरीय विकास व आवास विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे व आयुक्त गुलशन बामरा सहित आधा दर्जन वरिष्ठ अधिकारियों ने पाईप लाईन डालने के कार्य का निरीक्षण किया था। इस दौरान बिना बेस बनाए कच्ची जगह पर पाईप लाईन डालने पर प्रमुख सचिव ने जमकर फटकार लगाई। उन्होंने ठेकेदार, पीडीएमसी के अधिकारी एवं निगम अधिकारियों को लापरवाही पूर्वक कार्य कराने पर नाराजगी जाहिर की। प्रमुख सचिव ने बिना बेस के डाली गई पाईप लाईन निकालकर दोबारा कार्य कराने के निर्देश दिए। इन निर्देशों का पालन करते हुए ठेकेदार ने पाईप लाईन निकालना शुरू कर दिया है। जब पाईप निकल जाएंगे तो ज्वाइंट वाले स्थान पर बेस बनाकर दोबारा पाईप डाले जाएंगे।

अधीक्षण यंत्री ने किया मौके का निरीक्षण

प्रमुख सचिव के निर्देशानुसार पाइप लाइन के नीचे बेस तैयार करने की शुरूआत होते ही अधीक्षण यंत्री आरएलएस मौर्य मौके पर पहुंच गए। साथ ही उन्होंने मौके पर अधीनस्थ अधिकारियों से गुणवत्ता युक्त कार्य करने की हिदायत देकर समय सीमा में संपूर्ण कार्य करने को कहा।