कई बार बने प्रस्ताव पर जाम और दुर्घटनाओं के लिए कुख्यात 2 सकरे पुल नहीं हो सके चौडे 

कई बार बने प्रस्ताव पर जाम और दुर्घटनाओं के लिए कुख्यात 2 सकरे पुल नहीं हो सके चौडे 

जबलपुर। शहर में नेशनल राजमार्ग क्र 7 पर 2 पुलियें ऐसी हैं जो पल-पल जाम और दुर्घटनाओं के लिए कुख्यात हो चुकी हैं,आम नागरिक इनसे परेशान हैं जिम्मेदार इस रोड के बनने की बात तो कह रहे हैं मगर ये पुलियें कब तक चौड़ी होंगी इस बारे में स्पष्ट मत नहीं सामने आ पा रहा है। ये पुलियें गोहलपुर थाने के करीब व दूसरी जेएनकेविवि के सामने स्थित हैं। नगर निगम इन दोनों पुलियोें को बनवाने के लिए प्रस्ताव कई बरसों से तैयार करवा रहा है। जबलपुर से कटनी मार्ग पर शहर सीमा में स्थित इन दोनों पुलियों की समस्या आज की नहीं है बरसों से यह समस्या है। इन दोनों पुलियों के नीचे से पेयजल पाइप लाइन भी गुजर रही हैं जिन्हें नगर निगम को अलग करना है। नगर निगम रोड चौड़ीकरण की प्रतीक्षा कर रहा है। इसरोड पर नगर निगम गोहलपुर वाली पुलिया की पाइप लाइनों को अलग न करवाते हुए इसके 2 फीट ऊपर से छोटे पुल निर्माण के लिए डीपीआर तैयार करवाने जा रहा है। वहीं जेएनकेविवि के पास वाली पुलिया का प्रस्ताव पूर्व में बनकर रखा हुआ है जिसे निकलवाया जा रहा है। 2 साल पहले कहा गया था कि साल भर के अंदर दोनों पुलियों को चौड़ा किया जाएगा।

पल-पल जाम

गोहलपुर थाने के पास की संकीर्ण पुलिया पर बेहद कम स्पेस है। यहां से दो वाहन बामुश्किल ही गुजर पाते हैं। यह रोड चूंकि बेहद व्यस्त है और सुबह से लेकर रात तक यहां वाहनों का तेज रμतार आवागमन चालू रहता है। शाम के वक्त यहां से निकलना आसान नहीं है और एक के बाद एक वाहनों की कतार लग जाती है। इसी बीच छोटे वाहन निकलने का प्रयास करते हैं जिससे दुर्घटना का अंदेसा बना रहता है। यही हाल जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्व विद्यालय के पास की पुलिया में है जहां रोड तो खासी चौड़ी है मगर पुलिया के पास आकर यह 40 फीट की हो जाती है। यहां पर भी जाम व दुर्घटनाओं का खतरा बना रहता है।

ऐसे बनेगी पुलिया

गोहलपुर थाने के पास वाली पुलिया के नीचे से कई पाइप लाइनें गुजर रही हैं जिन्हें शिμट करना बेहद कठिन काम है। इसके लिए लोक निर्माण विभाग ने सोचा है कि पाइप लाइनों के 2 फीट ऊपर से छोटे पुल का िनर्माण करवाया जाए। इसमें जहां भी िपलर्स की गुंजाइश होगी बनाए जाएंगे। इसके लिए निगमायुक्त भी गंभीर हैं और विभागीय प्रस्ताव के बाद कंसलटेन्ट से डीपीआर बनवाने के लिए 1 लाख रुपए की राशि भी स्वीकृत की है। इस पुल का प्रस्ताव इंदुरख्या एण्ड कंपनी से बनवाया जा रहा है। बड़ी पाइप लाइन को बीच में लेते हुए यहां पर दो पुल तैयार होंगे जो आने और जाने के लिए अलग-अलग होंगे। वहीं कृषि विवि के पास वाली पुलिया का जो प्रस्ताव पूर्व में बनवाया गया था उसे बुलवाकर देखा जा रहा है। एक वर्ष के अंदर दोनों पुल तैयार करवाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।