24 घंटे में टैक्स रिफंड मिलेगा, सरकार ब्याज देने से बचेगी

24 घंटे में टैक्स रिफंड मिलेगा, सरकार ब्याज देने से बचेगी

इंदौर  ।  अब आमदनी पर आयकर चुकाने वालों को बहीखाते का हिसाबकिताब बताते ही इनकम टैक्स वापस मिल सकेगा। रिटर्न दाखिले के 24 घंटे के भीतर सरकारी नुमाइंदे रकम खाते में वापस कर देंगे। दो साल के भीतर सरकार तकनीकी रूप से इसे अमलीजामा पहना देगी। रिफंड होने से सरकारी खजाने पर भी बोझ कम होगा और ब्याज की रकम चुकाने से निजात मिलेगी। टैक्स रिटर्न भरने वाले करदाताओं के लिए सरकार हर बार कुछ नया कर रही है, जो रिटर्न को आसान बनाने के साथ ही सरकारी खजाने को भी दोगुना कर रहा है। अब केंद्र सरकार ने नए नियम बनाए हैं। इसमें आगामी दो वर्षों में 24 घंटे के भीतर रिफंड देने के लिए राजस्व विभाग एक तंत्र बनाने की तैयारी में है। राजस्व विभाग से जुड़े सूत्रों का कहना है कि सिस्टम यह सुनिश्चित करेगा कि सभी रिटर्नों की जांच-पड़ताल 24 घंटे के भीतर हो जाए और रिफंड कर दिया जाए।

* सरकार ने पिछले माह केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के सूचना प्रौद्योगिकी ढांचे को उन्नत बनाने का फरमान सुनाया है।

* इसके लिए 4,200 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं।

* रिटर्न, रिफंड, कर अधिकारी एवं करदाताओं का आमनासा मना नहीं होगा।

* सत्यापन प्रक्रिया में तेजी लाने में मदद मिलेगी।

दो माह का समय लगता है रिटर्न मिलने में

वर्तमान समय में रिफंड का काम स्वचालित तरीके से आॅनलाइन होता है। इस वर्ष में 1.50 लाख करोड़ रुपए का रिफंड सीधे बैंक खातों में भेजा गया है। अब रिफंड प्रणाली को ज्यादा उन्नत बनाया जा रहा है, ताकि 24 घंटे के भीतर लोगों को रिफंड मिल सके, क्योंकि अभी लगभग दो माह का समय रिफंड भरने में लगता ही है। प्रक्रिया को शुरू करने में लगेगा दो साल का समय इस प्रक्रिया को शुरू करने के लिए दो साल लगेंगे। इस दौरान कर अधिकारी व करदाताओं के आमनेसा मने नहीं आने की प्रक्रिया को भी पूरा किया जाएगा। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अंतरिम बजट पेश करने के दौरान कहा था- आयकर विभाग आॅनलाइन काम कर रहा है और रिफंड, रिटर्न, आकलन और लोगों की शिकायतें आॅनलाइन दूर होंगी।