अफ्रीका के सामने 395 रनों का लक्ष्य

अफ्रीका के सामने 395 रनों का लक्ष्य

विशाखापत्तनम। पहली बार सलामी बल्लेबाज के तौर पर खेल रहे रोहित शर्मा की रेकॉर्ड पारी के दम पर भारत ने यहां एसीए.वीसीए स्टेडिमय में जारी पहले टेस्ट मैच के चौथे दिन शनिवार को साउथ अफ्रीका के सामने 395 रनों का मजबूत लक्ष्य रखा, जिसके जवाब में मेहमान टीम अच्छी शुरुआत नहीं कर सकी। चौथे दिन का खेल खत्म होने तक साउथ अफ्रीका ने अपनी दूसरी पारी में एक विकेट खोकर 11 रन बना लिए हैं। खराब रोशनी के कारण हालांकि दिन का खेल समय से पहले खत्म कर दिया गया। एडिन मार्करम तीन और थेयुनिस डे ब्रयून पांच रन बनाकर खेल रहे हैं। भारत ने अपनी पहली पारी सात विकेट के नुकसान पर 502 रनों पर घोषित की थी। साउथ अफ्रीका ने भी संघर्ष किया और अपनी पहली पारी में 431 रन बनाए। भारत दूसरी पारी में 71 रनों की बढ़त के साथ उतरी थी। साउथ अफ्रीका अभी भी लक्ष्य से 384 रन दूर है। मेहमान टीम ने पहली पारी में शतक लगाने वाले डीन एल्गर ;2द्ध के रूप में अपना एक विकेट खोया। वह रविंद्र जडेजा का शिकार बने। जडेजा की अपील पर हालांकि मैदानी अंपायर ने उन्हें नॉट आउट करार दे दिया थाए लेकिन भारत ने रिव्यू लिया जो एल्गर के खिलाफ रहा। 

चौथा दिन हिटमैन के नाम रहा

मैच का चौथा दिन पूरी तरह से रोहित शर्मा (हिटमैन) के नाम रहा। रोहित इस मैच में टेस्ट में बतौर सलामी बल्लेबाज पहली बार खेल रहे हैं और वह दोनों पारियों में शतक लगाने में भी सफल रहे। पहली पारी में 176 रन बनाने वाले रोहित ने दूसरी पारी में 127 रनों का योगदान दिया। वह एक टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक जमाने वाले भारत के छठे बल्लेबाज बने हैं। रोहित को पहली पारी में आउट करने वाले केशव महाराज ने ही इस पारी में भी उनका विकेट लिया। दोनों बार वह स्टम्पिंग हुए। वह टेस्ट की दोनों पारियों में स्टम्पिंग होने वाले पहले भारतीय हैं। 

भारत की ओर से 27 छक्के लगे

भारत ने इस मैच में कुल 27 छक्के लगाए हैं जो एक टेस्ट में किसी भी टीम द्वारा लगाए गए सबसे ज्यादा छक्के हैं। 2014 में न्यू जीलैंड ने पाकिस्तान के खिलाफ 22 छक्के लगाए थे। इससे पहले भारत ने 2009 में श्रीलंका के खिलाफ मुंबई में टेस्ट मैच में 15 छक्के लगाए थे। रोहित का चेतेश्वर पुजारा ने बखूबी साथ दिया। पुजारा ने 81 रनों की पारी खेली। दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 169 रन जोड़े। भारत की दूसरी पारी की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी। पहली पारी में दोहरा शतक मारने वाले मयंक अग्रवाल (7) को महाराज ने अपना शिकार बनाया। इसके बाद हालांकि पुजारा और रोहित ने साउथ अफ्रीकी गेंदबाजों की अच्छी खबर ली। पुजारा पहले सत्र में बेहद धीमा खेले, लेकिन दूसरे सत्र में उन्होंने अच्छी स्ट्राइक रेट से रन बनाए। दूसरे सत्र में दोनों खिलाड़ियों ने भारत का कोई भी विकेट नहीं गिरने दिया।