434 किमी में ट्रेनों को लग रहे कॉशन ऑर्डर के 45 झटके

434 किमी में ट्रेनों को लग रहे कॉशन ऑर्डर के 45 झटके

जबलपुर पश्चिम मध्य रेल के इटारसी-जबलपुर-सतना रेलखण्ड में ट्रैक सुधार, पटरी बदलने व मेंटेनेंस के नाम पर करोड़ों खर्च करने के बावजूद ट्रेनों की रफ्तार बढ़ने का नाम नहीं ले रही। कागजों में तो इस रेल खण्ड में ट्रेनों की अधिकतम रफ्तार 105 से 115 किमी तक बढ़ा दी गई है, लेकिन इसका कोई फायदा यात्रियों को मिलता नजर नहीं आ रहा। आलम यह है कि 434 किमी लंबे इस रेल खण्ड में रोजाना दौड़ रहीं एक सैकड़ा से ज्यादा ट्रेनों को कॉशन आॅर्डर(गति प्रतिबंध) के ही 45 झटके खाने पड़ रहे हैं। 21 परमानेंट कॉशन इस रेल खण्ड में लगाए गए 45 कॉशन ऑर्डर में 21 को परमानेंट लगाकर रखा गया है। इनमें से कई कॉशन आॅर्डर तो महीनों से लगाए गए हैं। जबलपुर-इटारसी व जबलपुर-कटनी-सतना के बीच कई हिस्से ऐसे हैं, जहां ट्रेनों की स्पीड को अधिकतम 10 से 30 किमी की रफ्तार तक प्रतिबंधित कर दिया गया है। जबलपुर यार्ड में ही 5 कॉशन आॅर्डर लगाए गए हैं, जहां से ट्रेनों को 10 किमी से ज्यादा रफ्तार पर नहीं निकाला जा रहा। इन्हें हटाने की दिशा में रेल प्रशासन गंभीरता से कोई प्रयास नहीं कर रहा है।

यहां पिट रहीं ट्रेनें

कॉशन आॅर्डर लगाकर ट्रेनों की गति निर्धारित कर दिए जाने से ट्रेनें जमकर पिट रही हैं। जबलपुर-सतना के बीच 30 कॉशन आॅर्डर लगाए गए हैं। इस सेक्शन में निवारकट नी साउथ के बीच 3, कटनी-पटवारा के बीच 2, पटवारा-महगांव, झुकेही यार्ड, स्लीमनाबाद-निवार, गोसलपुर-सिहोरा, देवरी-गोसलपुर, जबलपुर-अधारताल सहित अन्य स्थानों पर कॉशन आॅर्डर लगाए गए हैं। इसी तरह जबलपुर-इटारसी सेक्शन में जबलपुर-मदनमहल, भेड़ाघाट-भिटौनी, करेली-बोहानी, बोहानी-गाडरवारा, सालीचौका-बनखेड़ी, सोहागपुर, बागरातवा-सोनतलाई सहित अन्य स्थानों पर कॉशन आॅर्डर से ट्रेनों की रफ्तार पर ब्रेक लग रहे हैं।

ऐसे सुपरफास्ट हुई लेट

कॉशन ऑर्डर के कारण ट्रेनों का समय- पालन बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है। गुरूवार की सुबह 12149 डाउन पुणे- दानापुर सुपरफास्ट अपने निर्धारित समय से 15 मिनट देर से जबलपुर की ओर रवाना हुई थी। जबलपुर पहुंचते-पहुंचते यह गाड़ी 01 घंटे 01 मिनट लेट हो गई। इस ट्रेन का सतना पहुंचने का समय शाम 4 बजकर 30 है, लेकिन 1 घंटे 17 मिनट विलंब से यह गाड़ी शाम को 05 बजकर 47 मिनट पर सतना पहुंची।