जियो का स्मार्टफोन डिजिटल समावेशन की दिशा में एक बड़ा कदम : ईशा अंबानी

जियो का स्मार्टफोन डिजिटल समावेशन की दिशा में एक बड़ा कदम : ईशा अंबानी

मुंबई। देश के सबसे बड़े मोबाइल डेटा नेटवर्क मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो ने महिलाओं के मध्य डिजिटल साक्षरता बढ़ाने और लिंगानुपात सुधारने के लिए जीएसएमए से हाथ मिलाया है। जियो की ‘कनेक्टेड महिला इनिशिएटिव’ नाम से शुरू इस पहल का मकसद देश में महिलाओं के डिजिटल अपनाने और डिजिटल साक्षरता के लिंग अंतर को पाटना और अधिक से अधिक महिलाओं को डिजिटल दुनिया से जोड़ना है। इस पहल के तहत जियो और जीएसएमए का प्रयास होगा कि महिलाएं डिजिटल सेवाओं का अधिकाधिक उपयोग करें। कंपनी ने कहा है कि हाल के समय मोबाइल और इंटरनेट प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से लोगों के जीवन में बदलाव आया है, लेकिन देश में मोबाइल फोन अपनाने में लिंग अंतर बहुत अधिक दिखाई देता है। जियो ने दूरसंचार के क्षेत्र में कदम रखने के समय से ही इस अंतर को कम करने की अपनी प्रतिबद्धता के साथ सभी को समान अवसर मुहैया कराने की दिशा में कदम उठाए हैं। रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड की निदेशक ईशा अंबानी ने जियो के डिजिटल समावेशन पर ध्यान केन्द्रित करने के संबंध में कहा कि मोबाइल और इंटरनेट प्रौद्योगिकी की विकास गति पिछले एक दशक में बहुत अधिक और उल्लेखनीय रही है। यह महिलाओं को सशक्त बनाने और सूचना तथा शिक्षा की बढ़ती पहुंच के साथ जीवन बदलने, वित्तीय समावेशन का समर्थन करने और जीवन में सुधार को बढ़ाने वाली सेवाएं और रोजगार के अवसर प्रदान करता है। जियो में इसकी परिकल्पना की गई और हम सभी भारतीयों के इस सपने को सच करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। जियो की नई पहल के तहत जीएसएमए मोबाइल आॅपरेटरों और उनके सहयोगियों के साथ वैश्विक रूप से उन अड़चनों को दूर करने के लिए काम करेगा जो महिलाओं को डिजिटल दुनिया से जोड़ने में आड़े आती हैं। जीएसएमए और टेलीकाम सेवा प्रदाता मिलकर महत्वपूर्ण सामाजिक-आर्थिक लाभ दे सकते हैं और अनगिनत महिलाओं के जीवन में इसके माध्यम से बदलाव ला सकते हैं।