कई सालों बाद अब करतारपुर साहिब के लिए वीजा फ्री यात्रा आज से होगी शुरू

कई सालों बाद अब करतारपुर साहिब के लिए वीजा फ्री यात्रा आज से होगी शुरू

जालंधर। कई साल के इंतजार बाद शनिवार से सिख तीर्थ करतारपुर साहिब के लिए वीजा फ्री यात्रा शुरू होगी। 9 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कॉरिडोर का लोकार्पण करेंगे। पिछले साल भारत में 26 नवंबर को और पाकिस्तान में 28 नवंबर को कॉरिडोर का शिलान्यास किया गया था। कॉरिडोर में भारत की ओर बनी 3.8 किमी सड़क के किनारे 8 हजार पौधे लगाए जा रहे हैं। सर्विस लेन पर 226 लाइटें और मेन रोड पर 114 लाइटें लगाई गई हैं। विदित है कि करतारपुर कॉरिडोर सिखों का पवित्र तीर्थ स्थल है। यह सिखों के प्रथम गुरु, गुरुनानक देव जी का निवास स्थान था। अपने जीवन के अंतिम दिन उन्होंने यही बिताए और यहीं उनका निधन हुआ था. उनके निधन के पश्चात उनकी याद में यहां पर गुरुद्वारा बनाया गया था. जिसका नाम रखा गया गुरुद्वारा दरबार साहिब करतारपुर। करतारपुर साहिब पाकिस्तान के नारोवाल में जिले में स्थित है। गुरु नानक देव का 550वां प्रकाश पर्व मनाने के लिए भारत- पाकिस्तान की दोनों सरकारों ने मंजूरी दे दी है। 

10 हजार होगी श्रद्धालुओं की संख्या :

पाक के कॉरिडोर प्रोजेक्ट डायरेक्टर आतिफ माजिद के अनुसार अभी हर दिन 5 हजार तीर्थयात्री दर्शन के लिए आ सकेंगे। इसे बढ़ाकर 10 हजार श्रद्धालु प्रतिदिन किया जाएगा। 

125 किमी से 7.80 किमी हुई करतारपुर साहिब की

अब तक करतारपुर साहिब की यात्रा के लिए श्रद्धालुओं को वीजा लेकर 125 किमी लंबी यात्रा करनी पड़ती थी। कॉरिडोर बनने के बाद 7.80 किमी की वीजा फ्री यात्रा के बाद गुरुघर के दर्शन किए जा सकेंगे। जो श्रद्धालु वीजा लेकर पाक नहीं जा पाते थे, वे गुरदासपुर से 40 किमी दूर अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर स्थित कस्बा डेरा बाबा नानक के गुरुद्वारा शहीद बाबा सिद्ध सौं रंधावा से दूरबीन की मदद से करतारपुर साहिब का दर्शन करते थे। 

भारत ने खर्च किए करीब 500करोड़, पाकिस्तान ने 300करोड़ रुपए

जुलाई 2019 में केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कहा था कि करीब 500 करोड़ की लागत से कॉरिडोर बन रहा है। वहीं पाक की तरफ 4 किमी लंबा कॉरिडोर को बनाने की लागत 300 करोड़ रुपए है। 

 श्रद्धालुओं से पाक लेगा 20 अमेरिकी डॉलर

पाक प्रत्येक भारतीय तीर्थयात्री से 20 अमेरिकी डॉलर यानी करीब 1,400 रुपए एंट्री फीस लेगा। ऐसे में सिर्फ एंट्री फीस से हर रोज पाक 71.40 लाख रुपए श्रद्धालुओं से वसूलेगा। एक माह में यह धनराशि 21 करोड़ 42 लाख रुपए होगी और सालभर में 257.04 करोड़ रुपए तक कमा सकता है। 

कुरैशी बोले 9 और 12 को श्रद्धालुओं से कोई फीस नहीं ली जाएगी

इधर पाक के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शुक्रवार रात स्पष्ट किया कि 9 और 12 नवंबर को करतारपुर साहिब आने वाले श्रद्धालुओं से कोई फीस नहीं वसूली जाएगी। इससे पहले, खबर आई थी कि उद्घाटन समारोह के दिन भी भारतीय सिख श्रद्धालुओं से 20 डॉलर (करीब 1400 रु.) लिए जाएंगे।