गोपाल मंदिर व राजवाड़ा के आसपास से हटाई 112 दुकानों का लॉटरी सिस्टम से हुआ आवंटन

गोपाल मंदिर व राजवाड़ा के आसपास से हटाई 112 दुकानों का लॉटरी सिस्टम से हुआ आवंटन

इंदौर। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत राजवाड़ा से लगे गोपाल मंदिर रोड की दुकानों को तोड़ने के बाद व्यापारियों के लिए बनाए गए नए जी प्लस टू के कमर्शियल कॉम्प्लेक्स में दुकानों का आवंटन लॉटरी सिस्टम से किया गया। आवंटन प्रक्रिया के तहत 221 दुकानों में से 112 दुकानों का आवंटन कर दिया गया है। दुकानों के आवंटन की कार्रवाई के दौरान व्यापारियों में काफी गहमा गहमी बनी हुई थी। इस कार्रवाई के दौरान व्यापारियों ने दुकानों के किराए को लेकर जमकर हंगामा भी किया। व्यापारियों का कहना था कि निगम दुकानों का किराया काफी ज्यादा ले रहा है। इस मामले में अधिकारियों ने किराया कम करने का आश्वासन दिया। मंगलवार को अपर आयुक्त रजनीश कसेरा की उपस्थिति में सिटी बस आॅफिस में स्मार्ट सिटी योजना अंतर्गत गोपाल मंदिर के पीछे निर्माणाधीन कॉम्प्लेक्स में पूर्व में राजवाड़ा, गोपाल मंदिर के आसपास से हटाए दुकानदारों को लॉटरी के माध्यम से ड्रॉ कर दुकानों का आंवटन किया गया। व्यापारियों को दुकानों के आवंटन के लिए सात दिन पहले ही सूचना दे दी गई थी। राजवाड़ा से सटे गोपाल मंदिर के आसपास की कुल 112 दुकानों को निगम ने स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के अंतर्गत गोपाल मंदिर और राजवाड़ा के जीर्णोद्धार करने के लिए तोड़ दी थी। इन व्यापारियों को दुकान के बदले दुकान देने का निर्णय लिया गया। इसी को लेकर निगम ने गोपाल मंदिर के पीछे खाली पड़ी निगम की जमीन पर कमर्शियल कॉम्प्लेक्स में 221 दुकानों का निर्माण किया जा रहा है।

ऐसे हुआ दुकानों का आवंटन - गोपाल मंदिर नगर निगम के किराएदारों को 26 ग्राउंड फ्लोअर पर, गोपाल मंदिर टस्ट के दुकानदार को 14 भूतल पर, इमामबाड़ा के दुकानदार को 4 प्रथम तल पर, राजवाड़ा के पास गोपाल मंदिर के सामने के दुकानदारों को 20 प्रथम तल पर, गोपाल मंदिर ट्रस्ट के दुकानदार पर 31 प्रथम तल की दुकानें आंवटित की गई हैं।

व्यापारियों ने जमकर किया हंगामा - आवंटन प्रक्रिया के दौरान निगम के अफसरों ने दुकानों के किराए का खुलासा किया तो व्यापारियों ने हंगामा शुरू कर दिया। व्यापारियों के हंगामे के कारण कार्रवाई काफी देर तक रुकी रही। व्यापारियों ने किराए पर सवाल उठाते हुए कहा कि दुकानें काफी छोटी हैं और किराया इतना क्यों लिया जा रहा है। इसी बात को लेकर काफी देर तक गहमागहमी बनी रही। निगम के किराए को लेकर व्यापारी जरा भी संतुष्ट नहीं थे। निगम के अधिकारियों ने व्यापारियों को यह कहते हुए शांत किया कि वे फिर से किराए को लेकर बड़े अफसरों से चर्चा करेंगे और कम से कम किराया करने का प्रयास करेंगे।

दो माह बाद मिलेगा कब्जा - कॉम्प्लेक्स में जिन व्यापारियों को दुकानें आवंटित की गई हैं, उन्हें कब्जा देने में कम से कम एक से दो माह का समय लगेगा, क्योंकि कॉम्प्लेक्स में अभी फिर्निशिंग वर्क होना बाकी है। यह काम पूरा होते ही 112 व्यापारियों को दुकानों का कब्जा दे दिया जाएगा।

जिनकी दुकानें तोड़ी, उन 12 व्यापारियों की सूची पहले तैयार की

मार्केट विभाग के उपायुक्त लोकेन्द्रसिंह सोलंकी ने बताया कि सिटी बस आॅफिस में दोपहर 1 बजे से शाम 4 बजे तक गोपाल मंदिर के दुकानदारों को लॉटरी सिस्टम से दुकानों का आवंटन किया गया। 112 व्यापारियों के नामों की सूची पहले से ही तैयार कर ली थी जिनकी दुकानें तोड़ी गई थीं। दोपहर साढ़े 12 बजे तक सारे व्यापारी सिटी बस आॅफिस के हॉल में जमा हो गए थे। अपर आयुक्त रजनीश कसेरा समेत अन्य अफसर भी यहां मौजूद थे। दोपहर 1 बजे से सूची के अनुसार लॉटरी निकालने का काम शुरू हुआ। हर लॉटरी पर दुकान नंबर लिखा हुआ था और जैसे-जैसे लॉटरी खोली जा रही थी, उसके अनुसार दुकान आवंटित की जा रही थी।