स्कूली बच्चों की सुरक्षा के लिए वैन पर प्रतिबंध

स्कूली बच्चों की सुरक्षा के लिए वैन पर प्रतिबंध

जबलपुर । इसी माह से शुरु होने वाले नए शिक्षण सत्र में स्कूली बच्चों की सुरक्षा के लिए वैन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। हाईकोर्ट के आदेश को आधार बनाकर वैन से स्कूली बच्चों के परिवहन को प्रतिबंधित करने का आदेश दिया है, अब तक इस पर सख्ती से रोक लगाने के लिए आरटीओ ने पूरी तैयारी कर ली है। यातायात विभाग के सहयोग से इस पर अमल किया जाएगा। स्कूल खुलने में महज एक पखवाड़ा बचे हैं। गौरतलब है कि पिछले दिनों परिवहन उपायुक्त ने कहर था कि शहर में बच्चों को वैन से स्कूल ले जाना अवैध है। शहर के स्कूलों में चल रही वैन निजी श्रेणी में रजिस्टर्ड है। परिवहन विभाग के नियम के अनुसर 13 यात्रियों से कम क्षमता वाल वाहनों को स्कूल वाहन के रूप में रजिस्टर्ड नहीं करवाया जा सकता। उल्लंघन करने पर पहले लायसेंस निरस्ती और दूसरी बार पकड़ाने पर सजा का प्रावधान है।

सिर्फ आॅटो वाहनों में जा सकेंगे

अब बच्चे सिर्फ आॅटो मैजिक और बसों से ही स्कूल जा सकेंगे। यदि वैन चलती हुई नजर आई तो आरटीओ सख्त कार्रवाई करेंगे। इसके अलावा आॅटो में बच्चों को उम्र के अनुसार बैठाना होगा। वैन के लिए दिए गए आदेश के मुताबिक स्कूली वैन दो तरह से नियम तोड़ती है। यह निजी श्रेणी में रजिस्टर्ड होती है और बच्चों को ढोने में कमशिल्यल उपयोग होता है।

आॅटो के लिए तय गाइड लाइन

* चालक के अलावा 12 वर्ष से अधिक के केवल तीन छात्र।

* चालक के अलावा 12 साल से अधिक आयु के दो छात्र होने पर इससे कम आयु के छात्र समेत 4 बच्चे।

* चालक के अलावा 12 साल से कम के 5 छात्र सवार हो सकते हैं। आखिरी स्थिति में 12 साल से अधिक आयु का एक और कम आयु के तीन छात्र सवार हो सकते हैं।