छोड़ा नाथ का ‘हाथ’ सिंधिया ‘कमल’ के साथ

छोड़ा नाथ का ‘हाथ’ सिंधिया ‘कमल’ के साथ

नई दिल्ली। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को भाजपा का दामन थाम लिया। पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में सदस्यता ग्रहण करने के बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। पहले कांग्रेस छोड़ने के कारण गिनाए, फिर भाजपा में आने की वजह भी बताई। सिंधिया ने कहा कि कांग्रेस पार्टी बदल चुकी है और अब उसके जरिए जनसेवा संभव नहीं थी। उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी की भी तारीफ की और कहा कि उनके हाथ में देश का भविष्य का पूरी तरह सुरक्षित है। सिंधिया ने कहा - मेरे जीवन में दो तारीखें बहुत महत्वपूर्ण रही हैं। पहला दिवस है 30 सितंबर 2001, जिस दिन मैंने अपने पूज्य पिताजी को खोया। वह मेरे लिए जीवन बदलने का दिवस था। दूसरी तारीख 10 मार्च 2020, जो उनकी 75वीं वर्षगांठ है, जहां जीवन में एक नई परिकल्पना, नया मोड़ का समाना करके मैंने एक निर्णय लिया है। मैंने सदैव माना है कि राजनीति का लक्ष्य जनसेवा होना चाहिए।

कांग्रेस छोड़ते ही हमला...

मेरे गृह राज्य के लिए हमने एक सपना पिरोया था। 2018 में सरकार बनी, लेकिन 18 महीनों में सपने बिखर गए। किसानों से कहा गया था कि हम 10 दिन में कर्जा माफ करेंगे, लेकिन 18 महीनों में नहीं हो पाया। बोनस नहीं मिल पाया, ओलावृष्टि की क्षतिपूर्ति नहीं हो पाई। किसान त्रस्त हैं तो युवाओं के लिए रोजगार के अवसर नहीं। जहां रोजगार उत्पन्न नहीं हुए, वहां भ्रष्टाचार पनप रहा है। वहां ट्रांसफर उद्योग चल रहा है।

सिंधिया इकलौते नेता, जो कभी भी घर आ सकते थे : राहुल

सिंधिया के भाजपा में जाने के बाद राहुल गांधी ने पहली पहली प्रतिक्रिया दी। कहा- ‘सिंधिया इकलौते ऐसे नेता थे जो बेधड़क मेरे घर किसी भी वक्त आ सकते थे।’ दरअसल कहा जा रहा था कि सिंधिया ने पार्टी छोड़ने से पहले सोनिया गांधी और राहुल गांधी से संपर्क करने की कोशिश की थी, लेकिन उन्हें समय नहीं मिला था।

शिवराज का ट्वीट

आज का दिन बीजेपी और मेरे लिए आनंद व प्रसन्नता का दिन है। आज मुझे राजमाताजी याद आ रही हैं। वे भाजपा के लाखों कार्यकर्ताओं की मां थीं। उनके पोते सिंधिया बीजेपी परिवार में शामिल हुए। सिंधिया ने जेपी नड्डा और अमित शाह के साथ राष्ट्र की सेवा करने बीजेपी को चुना। उनका ह्रदय से स्वागत करता हूं। उनके आने से मप्र भाजपा मजूबत होगी। शिवराज का ट्वीट

राहुल गांधी ने ट्वीट

सिंधिया के इस्तीफे के करीब 24 घंटे बाद राहुल गांधी ने ट्वीट किया... जब आप (मोदी सरकार) कांग्रेस की चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने में व्यस्त हैं, तब यह देखने में चूक गए कि दुनिया में तेल की कीमतों में 35% की गिरावट आई है। क्या आप पेट्रोल की कीमतों को 60 रुपए प्रति लीटर कर देश के लोगों को राहत दे सकते हैं? इससे देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी।

सिंधिया समर्थक विधायकों ने जारी किए वीडियो, कहा- हम महाराज के साथ

ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद उनके समर्थन में राज्य से लेकर ब्लॉक स्तर तक 10 हजार कांग्रेसियों के इस्तीफे हो चुके हैं। ग्वालियर, गुना, शिवपुरी समेत कई कांग्रेस जिला अध्यक्षों ने भी पद छोड़ दिया है। इस बीच, बेंगलुरु में बैठे विधायकों ने बुधवार को वीडियो जारी कर ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रति निष्ठा जताई है। रिसॉर्ट में ठहराए गए इन विधायकों और मंत्रियों ने कहा कि हम पूरी तरह से महाराज के साथ हैं। इन लोगों ने दावा किया कि कांग्रेस से मिलने या संपर्क करने की खबरें झूठी हैं। हम बेंगलुरु अपनी इच्छा से आए हैं। वीडियो जारी करने वालों में 5 मंत्री भी शामिल हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंगलवार को विधायक दल की बैठक के बाद दावा किया था कि सरकार पर कोई संकट नहीं है। बेंगलुरु गए सभी विधायक उनके संपर्क में हैं। इन विधायकों ने वीडियो जारी किया कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे तुलसी सिलावट, इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह, प्रभुराम चौधरी, गोविंद सिंह राजपूत के अलावा विधायक महेंद्र सिंह सिसोदिया, सुरेश धाकड़, रक्षा संतराम सरोनिया, जजपाल सिंह जज्जी, विजेंद्र सिंह, रघुराज कंसाना, ओपीएस भदौरिया, मुन्नालाल गोयल, गिर्राज दंडोतिया, कमलेश जाटव, रणवीर सिंह जाटव, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, हरदीप सिंह डंग और मनोज चौधरी ने वीडियो जारी किया।

सिंधिया आज आएंगे भोपाल, एयरपोर्ट पर होगा भव्य स्वागत

सिंधिया गुरुवार दोपहर 3 बजे विशेष विमान से भोपाल आएंगे। उन्हें एयरपोर्ट से प्रदेश भाजपा कार्यालय तक काफिले के रूप में लाया जाएगा। एयरपोर्ट में उनकी भव्य अगवानी के बाद 3:30 बजे प्रदेश कार्यालय में उनका भव्य स्वागत किया जाएगा। गुरुवार को भोपाल पहुंचने के बाद शुक्रवार को सिंधिया राज्यसभा के लिए नामांकन पत्र दाखिल करेेंगे।