90 मिनट से ज्यादा आॅनलाइन गेम नहीं खेल सकेंगे चीनी बच्चे

90 मिनट से ज्यादा आॅनलाइन गेम नहीं खेल सकेंगे चीनी बच्चे

बीजिंग। चीन ने बच्चों में आॅनलाइन गेम खेलने की बढ़ती लत पर अंकुश लगाने सख्त कदम उठाए हैं। इसके तहत 18 साल से कम उम्र के बच्चे दिन के दौरान 90 मिनट से ज्यादा आॅनलाइन गेम नहीं खेल सकेंगे। यही नहीं, रात दस बजे से सुबह आठ बजे तक गेम खेलने पर पाबंदी रहेगी। नए दिशा-निर्देश में आॅनलाइन गेम खेलने पर खर्च होने वाली राशि पर भी कैंची चलाई गई है। बच्चे गेम पर हर माह 200 युआन (करीब दो हजार रुपए) से ज्यादा खर्च नहीं कर सकेंगे। 16 से 18 साल के किशोरों के लिए इसकी सीमा 400 युआन (करीब 4 हजार रुपए) है। नए नियमों के तहत गेम खेलने वाले बच्चों को अपने असली नाम पर रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा। उन्हें चीनी मैसेजिंग सोशल मीडिया वीचैट पर अपने अकाउंट, फोन नंबर या आईडी नंबर जैसे विवरण देने होंगे। सरकार ने गेम निर्माताओं से अपने गेम कंटेंट और नियमों में बदलाव करने को भी कहा है। 

फर्जी आईडी नंबर होंगे हासिल

बच्चों के आॅनलाइन गेम खेलने पर अंकुश लगाए जाने पर चीनी सोशल मीडिया वीबो पर गुरुवार को बहस छिड़ गई। 21 करोड़ यूजर वाले इस सोशल मीडिया पर एक व्यक्ति ने लिखा, नए निर्देश से जाहिर होता है कि किशोर उम्र के बच्चे गेम्स नहीं खेल सकेंगे, क्योंकि चीन में ज्यादातर किशोरों को स्कूल जाना पड़ता है, जो सुबह साढ़े छह बजे शुरू होकर रात दस बजे खत्म होता है। एक अन्य यूजर ने दावा किया कि फर्जी आईडी नंबर आसानी से हासिल किए जा सकते हैं। 

गेम खेलना मानसिक बीमारी

पिछले साल विश्व स्वास्थ्य संगठन ने गेम खेलने की लत (जिसे गेमिंग डिसआॅर्डर नाम दिया गया) को मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति माना था। हाल में अमेरिकी साइकाएट्री एसोसिएशन की मनोरोगों की रिपोर्ट में इसे औपचारिक तौर पर तो पहचान नहीं दी गई लेकिन इंटरनेट गेमिंग डिसआॅर्डर को आगे शोध के तौर पर सूचित किया गया। कुछ देशों ने बहुत ज्यादा गेम खेलने को एक बड़ा सार्वजनिक स्वास्थ्य का विषय माना है और कई जगह इसके इलाज के लिए निजी एडिक्शन क्लिनिक भी हैं। 

बच्चों की सेहत पर असर

चीन में दुनिया का सबसे बड़ा वीडियो गेम बाजार है, लेकिन बच्चों में पास की नजर कमजोर होने और आॅनलाइन गेम की लत को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच चीनी सरकार वीडियो गेम इंडस्ट्री पर अंकुश लगा रही है। वर्ष 2018 में चीन की सरकार ने गेमिंग नियामक के गठन की घोषणा की थी। 

चीन में 10 बजे तक बच्चों का सोना अनिवार्य

इससे पहले चीन के झेजियांग प्रांत में स्कूली बच्चों के सोने के समय को लेकर नए निर्देश जारी किए गए हैं, जिसके मुताबिक सभी बच्चों के लिए 10 बजे से पहले सोना अनिवार्य कर दिया गया है। शिक्षा विभाग की ओर से जारी की गई नई गाइड लाइन के मुताबिक अगर कोई बच्चा होमवर्क नहीं कर पाता है तो भी उसे तय समय पर सोने की छूट दी जाएगी। इसी तरह प्राइमरी स्कूल के छात्रों के लिए सोने का समय 9 बजे सुझाया गया है।