मंत्री पीसी शर्मा के जवाब से कलेक्टर संतुष्ट नहीं, दर्ज कराई एफआईआर

मंत्री पीसी शर्मा के जवाब से कलेक्टर संतुष्ट नहीं, दर्ज कराई एफआईआर

भोपाल। कमलनाथ सरकार के कानून व जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा पर रविवार रात 12 बजे आचार संहिता उल्लंघन के मामले में एफआईआर दर्ज करा दी गई है। एफआईआर टीटी नगर थाने में दर्ज कराई है। यह कार्रवाई अपनी ही पार्टी के कार्यकर्ताओं को पोलिंग बूथ जिताने के लिए नौकरी का प्रलोभन देने के मामले में की गई है। जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर डॉ सुदाम पी खाडे ने बताया कि शनिवार को आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में मंत्री पीसी शर्मा को नोटिस दिया गया था। उसके जवाब में उन्होंने कहा था कि उन्होंने कार्यकर्ताओं से जो कहा, वह कांग्रेस के घोषणा-पत्र का हिस्सा है। कांग्रेस के घोषणा-पत्र को खंगालने के बाद पाया गया कि उसमें ऐसी किसी घोषणा का जिक्र नहीं है। एक और बयान दिया , जिस पर हो सकता है विवाद इधर सूत्र बताते हैं कि मंत्री पीसी शर्मा ने बीते दिनों गुरुवार को भी एक और बयान दिया है। इस पर विवाद हो सकता है। उन्होंने, चुनाव के बाद आना, सबको सरकारी वकील बनवा देंगे’ वाली बात कही है।

भाजपा नेताओं ने दर्ज कराई थी शिकायत

बीते मंगलवार को सेकंड स्टॉप स्थित नर्मदीय भवन में लोकसभा चुनाव को लेकर दक्षिण पश्चिम विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई गई थी। बैठक में पीसी शर्मा ने कार्यकर्ताओं को 'बूथ जिताओ, नौकरी पाओ' का नारा दिया था। उन्होंने समझाते हुए कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने 22 लाख नौकरियां देने का वादा किया है। कांग्रेस की सरकार बनेगी तो नौकरियां मिलेंगी। भाजपा नेताओं ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सहित सी-विजिल एप में इसकी शिकायत की थी।