कलेक्टर ने किए दाम निर्धारित, मुनाफाखोरी की तो होगी FIR

कलेक्टर ने किए दाम निर्धारित, मुनाफाखोरी की तो होगी FIR

जबलपुर । कोरोना वायरस को लेकर मुनाफाखोरी जमकर हो रही हैं। जिसके कारण कलेक्टर भरत यादव ने कर्फ्यू और लॉक डाउन के दौरान रोजमर्रा की सामग्री की विक्रय दरें निर्धारित दरें कर दी हैं। जिसके कारण कलेक्टर ने अब किराना एवं संबंधित व्यापारियों से आम नागरिकों को निर्धारित दरों पर आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराने सहयोग की अपेक्षा की हैं। कलेक्टर ने कहा कि आम नागरिकों रोजमर्रा की सामग्री की दरें निर्धारित करने के आदेश के उल्लंघन की जानकारी संबंधित एसडीएम, तहसीलदार,नायब तहसीलदार थाना प्रभारी सहित अन्य अधिकारियों को सीधे दे सकते हैं। जिला प्रशासन ने तुअर दाल 85 रुपए, मूंग दाल छिलके वाली 100 रुपए प्रति किलोग्राम,मूंग दान धूली 105 रुपए प्रति किलो, मसूर दाल 50 रुपए, चना दाल 55 रुपए, उड़द दाल छिलके वाली 100 रुपए, मूंगफली रिफाइन तेल 120 रुपए, सन लावर रिफाइन तेल 100 रुपए,सोयाबीन रिफाइन तेल 95 रुपए,सरसो तेल 100 रुपए, आटा ब्रांडेड 160 रुपए, 5 किलोग्राम,आलू 30 रुपए किलो,प्याज 30 रुपए ,टमाटर 10 रुपए,चावल खंडा 25 रुपए,चावल ब्रांडेड 1250 रुपए का 25 किलोग्राम,गुड़ 40 रुपए किलोग्राम ऐसी अन्य रोजमर्रा की वस्तुओं रेट निर्धारित किए गए हैं।

घर के बाहर दिखे तो किया अंदर

सभी को सूचित किया जाता है कि दिन में 11 बजे के बाद जो भी सड़क पर पाया जाएगा उस पर कार्रवाई की जाएगी। वाहन भी जब्त कर लिए जाएंगे। साथ ही प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की जाएगी। माईक से गूंजती इस उदघोषणा ने सुबह से ही लोगों को चेता दिया। शहर में प्राय: हर हिस्से में संबंधित थानों क पुलिस टीम ने लॉक डाउन को सख्ती से पालन करवाने के लिए कई जगह कार्रवाई भी की है। वहीं केन्द्रीय मंत्री प्रहलाद पटैल ने सोमवार को मेडिकल हॉस्पिटल पहुंचकर संक्रमित मरीजों के उपचार की व्यवस्था स्वयं देखी। कोरोना वायरस संक्रमण की चेन तोड़ने सप्ताह भर से जिला प्रशासन,पुलिस व नगर निगम रात दिन एक किए हुए हैं। इस मुहिम में आम नागरिक भी साथ दे रहे हैं। कुछ नागरिक जो खुद को नियमों से ऊपर समझ रहे हैं उन्हें पुलिस की सख्ती का शिकार भी होना पड़ रहा है। राहत यह रही कि जरूरत का सामान लोगों को मिल रहा है। सुबह के समय वे अपने आसपास से किराना सामग्री या दवा अदि ले सकते हैं। भीड़ न लगाने पर पुलिस भी उन्हें सहयोग करती है।

कलेक्टर व डीन से की चर्चा, मरीजों से भी ली जानकारी

केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री प्रहलाद पटेल ने सोमवार को मेडिकल कॉलेज पहुंचकर यहां कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के उपचार की व्यवस्थाओं का जायजा लिया और आगे की रणनीति पर चिकित्सा अधिकारियों के साथ चर्चा की । श्री पटेल ने मेडिकल के आइसोलेशन वार्ड में उपचार के लिये भर्ती कोरोना पॉजिटिव मरीजों के स्वास्थ की जानकारी भी ली । उन्होंने मेडिकल कॉलेज के सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल जाकर यहां भी कोरोना वायरस के संङ्मीमण से निपटने की जा रही तैयारियों एवं उपलब्ध सुविधाओं का जायजा लिया। इस अवसर पर कलेक्टर भरत यादव,पुलिस अधीक्षक अमित सिंह,जिला पंचायत के सीईओ प्रियंक मिश्रा,मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ प्रदीप कसार,अधीक्षक डॉ राजेश तिवारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डर मनीष मिश्रा भी मौजूद थे ।

पार्षद ने शिवनगर में टैंकर से घर- घर पहुंचाया पानी

जय प्रकाश नारायण वार्ड शिवनगर शिव मंदिर के पास तीन चार दिनों से नल नहीं आने के कारण जनता को पानी की किल्लत हो गई थी। अपने वार्ड में पानी की कमी को पूरा करने के लिए पार्षद वीणा रजनीश जैन ने त्वरित समस्या के निपटारे के लिए नगर निगम पानी का टेंक भिजवाया और कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन करवाते हुए जनता को पानी की आपूर्ति करवाई।

अभिभाषकों को आर्थिक सहायता की मांग

पूर्व अध्यक्ष राज्य अधिवक्ता परिषद मप्र शिवेन्द्र उपाध्याय ने कहा है कि अभिभाषक भयंकर त्रासदी से जूझ रहा है। राज्य अधिवक्ता परिषद में मैंने 11 साल के कार्यकाल में कोई यात्रा भत्ता या भत्ता नहीं लिया था जो करीब पचास लाख के करीब है उसे मैं मुख्यमंत्री सहायता कोष में देना चाहता हूं।मध्य प्रदेश का अभिभाषक रोज कमाने रोज खाने की स्थिति में है। लॉग आउट होने की वजह से उसकी स्थिति खराब हुई है अत: राज्य सरकार को उनकी भी मदद करने की आवश्यकता है।

पूर्व एमआईसी सदस्य कमलेश अग्रवाल ने दिए 1 लाख

पूर्व एमआईसी सदस्य कमलेश अग्रवाल ने अपने परिवार की ओर से 1 लाख रुपए का चैक सोमवार को रेडक्रास सोसाइटी को सौंपा। उन्होंने कहा कि वर्तमान संकट के लिए सभी यथासंभव मदद करें।

शहर में रुके बाहर के मजदूर राशन प्राप्त करने कोरोना कंट्रोल रूम से करें संपर्क

कर्फ्यू और लॉकडाउन के दौरान शहर में ही रह गये बाहर के श्रमिक, मजदूर अथवा ऐसे लोग जिनके पास फिलहाल रोजी-रोटी का कोई जरिया नहीं बचा है वे खाद्यान्न प्राप्त करने के लिए एकीकृत कोरोना कंट्रोल रूम के दूरभाष ङ्मीमांक 0761.2637500 से सम्पर्क कर सकते हैं । इसके अलावा ऐसे व्यक्ति हेल्पलाइन नम्बर 104 एवं 181 अथवा कोरोना कंट्रोल रूम के ही दूरभाष क्रमांक 0761.2637501 से 0761.2637515 पर भी सम्पर्क कर सकेगें।

शुरू हुई रिहाई, छोडे गए 67 विचाराधीन कैदी

67 विचाराधीन कैदियों को जेलों से रिहाई मिली है। विचाराधीन कैदियों ने खुद को 45 दिनों तक घरों तक सीमित रखने का भरोसा जेल प्रशासन को दिलाया है।फैसले के तहत,विचाराधीन कैदियों को 45 की जमानत और सजायाता कैदियों को 60 दिन की पैरोल पर रिहा किया जा रहा है। जबलपुर केंद्रीय जेल के अधीक्षक गोपाल ताम्रकार ने बताया कि बीते दो दिनों में कुल 67 विचाराधीन कैदियों को रिहा किया जा चुका है, इनमे एक महिला कैदी भी शामिल है। इसके अलावाए 211 विचाराधीन कैदियों के प्रकरण न्यायालय भेजे गए है।