जेवर हवाईअड्डे बनाने का ठेका स्विट्जलैंड की ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल को

जेवर हवाईअड्डे बनाने का ठेका स्विट्जलैंड की ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल को

नोएडा। जेवर हवाईअड्डे को विकसित करने का ठेका स्विट्जरलैंड की कंपनी ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल को दिया जा रहा है। दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में यह दूसरा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा होगा जो तैयार होने के बाद यह देश का सबसे बड़ा हवाईअड्डा होगा। अधिकारियों ने बताया कि स्विट्जरलैंड की कंपनी ने राजस्व में हिस्सेदारी के मामले में प्रति यात्री सबसे ऊं ची बोली लगाई है। इसके लिए जारी अंतराष्ट्रीय निविदा में इस कंपनी ने दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड अडाणी एंटरप्राइजेज और एंकरेज इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट होंिल्डग्स लिमिटेड जैसी कंपनी को पीछे छोड़ दिया। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में यह तीसरा हवाईअड्डा होगा जिसे पूरी तरह से नए सिरे से विकसित (ग्रीनफील्ड) किया जाएगा। इससे पहले इस क्षेत्र में दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा और गाजियाबाद में ंिहडन हवाईअड्डा मौजूद है। 

5,000 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला होगा एयरपोर्ट

परियोजना के नोडल अधिकारी शैलेंद्र भाटिया ने कहा कि जेवर हवाईअड्डा या नोएडा इंटरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट जब पूरी तरह विकसित हो जाएगा तो यह 5,000 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला होगा। इसकी अनुमानित लागत 29,560 करोड़ रुपए आंकी गई है। उन्होंने कहा कि ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल ने इसके लिए सबसे ऊं ची बोली लगाई थी। बुधवार को घोषणा की गई थी कि प्रस्तावित हवाईअड्डे के विकास के लिए चार कंनियों की बोली को तकनीकी आधार पर सही पाया गया है। भाटिया ने बताया कि शुक्रवार को ग्रेटर नोएडा में नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के दμतर में चारों कंपनियों के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में बोलियां खोली गयीं। उन्होंने कहा कि चारों में कंपनियों में से एक को ठेका देने के लिए राजस्व में प्रति यात्री सबसे अधिक हिस्सेदारी देने को आधार बनाया गया। भाटिया ने कहा कि एंकरेज इंफ्रास्ट्रक्चर ने प्रति यात्री 205 रुपए, अडाणी एंटरप्राइजेज ने 360 रुपए, डायल ने 351 रुपए और ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल ने 400 .97 रुपए प्रति यात्री के हिसाब से बोली लगाई थी।