शिवाजी ग्राउंड में होगा दंगल, हाईकोर्ट ने दी अनुमति

शिवाजी ग्राउंड में होगा दंगल, हाईकोर्ट ने दी अनुमति

जबलपुर । मप्र हाईकोर्ट ने सदर स्थित शिवाजी ग्राउंड में नागपंचमी के अवसर पर होने वाले दंगल की अनुमति प्रदान की है। जस्टिस जेके माहेश्वरी व जस्टिस अंजुली पालो की युगलपीठ ने उक्त निर्देश केंटोमेंट बोर्ड की ओर से दिये गये आवेदन का निराकरण करते हुए दिये हैं। युगलपीठ ने मामले में आवेदक की ओर से कोई आपत्ति न होने व दंगल को खेल से जुड़ा हुआ मानते हुए उक्त अनुमति दी है, साथ ही आवेदक की ओर से ध्वनि विस्तारक यंत्रों की ध्वनि सीमित किये जाने पर भी अनावेदकों को ध्यान दिये जाने के निर्देश दिये हैं, हालांकि विस्तृत आदेश फिलहाल प्रतीक्षित है। उल्लेखनीय है कि यह जनहित का मामला सदर निवासी सुरेन्द्र यादव की ओर से दायर किया गया है। जिसमें कहा गया कि पूरे देश में कहीं पर खेल मैदान का प्रयोग सिर्फ खेलों के लिये होना चाहिये, इसके लिये सर्वोच्च न्यायालय ने भी आदेश जारी किये हैं। आवेदक का कहना है केंटोनमेंट बोर्ड के अंतर्गत आने वाला शिवाजी खेल मैदान का प्रयोग विगत कई वर्षों से खेल से हटकर अन्य गतिविधियों के लिये दिया जा रहा है। किसी प्रकार के आयोजन हो या फिर मेले का आयोजन, उक्त मैदान का प्रयोग किया जा रहा है, जो कि अनुचित है। आवेदक का कहना था कि मैदान में मेलों व अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। आवेदक का कहना है कि खेल मैदान में अन्य गतिविधियां होने से खिलाड़ियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, लेकिन कई वर्षों से इस तरह के आयोजनों की अनुमति दी जा रहीं है, जिस पर रोक लगना चाहिये।

इन्हें बनाया पक्षकार

मामले में प्रमुख सचिव खेल एवं युवा कल्याण विभाग, प्रमुख सचिव गृह एवं पर्यावरण विभाग, सीईओ केंटोनमेंट बोर्ड जबलपुर सहित कलेक्टर जबलपुर को पक्षकार बनाया गया था। जिस पर मामले की पिछली सुनवाई के दौरान न्यायालय ने उक्त मैदान पर खेल के अलावा किसी भी प्रकार के आयोजनों पर रोक लगा दी थी। मामले में सोमवार को केंट बोर्ड की ओर से दंगल (कुश्ती) के आयोजन की अनुमति को लेकर आवेदन दायर किया गया। जिस पर न्यायालय ने अनुमति प्रदान करते हुए आवेदन का निराकरण कर दिया। मामले में मूल याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता यश सोनी ने पक्ष रखा।