रीवा में दहेज लोभी को दुल्हन ने भगाया, उमरिया में विवाह टूटने से पुलिस ने बचाया

रीवा में दहेज लोभी को दुल्हन ने भगाया, उमरिया में विवाह टूटने से पुलिस ने बचाया

जबलपुर ।   दहेज विरोधी कड़े कानून के बावजूद समाज में दहेज का दानव मौजूद है। वहीं रीवा के एक गांव की साहसी लड़की ने पांच लाख डिमांड कर रहे दहेज लोभियों की बारात लौटवा दी, वहीं उमरिया में बैंडबाजा के रुपए देने को लेकर वर-वधु पक्ष के विवाद में शादी टूटने पर पुलिस ने हस्तक्षेप कर शादी करवाई। जानकारी के अनुसार मप्र के उमरिया जिला के ग्राम ओबरा थाना चंदिया निवासी बहादुर कोल पिता मुन्ना कोल 24 साल का विवाह ग्राम बड़छड़ चौकी अमरपुर में तय हुआ था। वर पक्ष बारात लेकर पहुंचे लेकिन बैण्ड बाजा न मिलने पर दुल्हन पक्ष को बैण्ड की व्यवस्था करने के लिए कहा गया लेकिन दुल्हन के पिता ने मना कर दिया। इस पर दूल्हा के पिता ने बैंड बाजे की व्यवस्था की लेनिक इसके लिए भुगतान दुल्हन के पिता से की गई जो उन्होंने देने से मना कर दिया। इसको लेकर बारात पक्ष नाराज हो गया तथा शादी तोडने की बात करने लगी। इस दहेज लोभियों को देखकर कर दुल्हन ने भी शादी करने से इंकार कर दिया। 100 डायल पहुंची इधर बैंड बाजा के रुपए को लेकर शादी टूटते देखकर किसी ने 100 डायल को सूचना दे दी अ‍ैर तत्काल पुलिस पहुंच गई। 100 डायल में पुलिस कर्मियों ने दोनों पक्षों को समझाया। इस पर वर पक्ष ने बैंड के रुपए देने तैयार हो गया तथा करीब 4 घंटे के व्यवधान के बाद विवाह की की रस्म शुरू हुई और तड़के 4 बजे वरमाला हुई। इसके बाद ही पुलिस वहां से रवाना हुई।

अनीता ने बारात लौटा

वहीं दूसरी घटना रीवा के गढ़ थाने के कलवारी गांव की है। यहां अनीता (काल्पनिक नाम) की बारात आई हुई थी। शादी के दौरान दूल्हा शराब के नशे में नजर आया तो दुल्हन ने विवाह से इंकार कर दिया। वहीं जब बाद में दुल्हन को समझाया गया तो वर पक्ष पांच लाख की दहेज को लेकर अड़ गया। बाद में दुल्हन एवं उसके परिवार वालों ने दहेज लोभी से शादी न करने का फैसला करते हुए बारात को लौटा दी। वहीं इस घटना क्रम के चलते वधु पक्ष को गहरा अघात झेलना पड़ा , जहां दुल्हन के माता पिता का स्वास्थ्य बिगड़ गया, वहीं दुल्हन भी अचेत हो गई। गांव वालों ने इस परिवार को सांत्वना देने के साथ फिर शादी तय होने पर पूरा सहयोग देने की बता कहीं है। फिलहाल घटना की रिपोर्ट पुलिसथाने में नहीं की गई।