बिना मीटर नहीं मिलेगा नल कनेक्शन

बिना मीटर नहीं मिलेगा नल कनेक्शन

इंदौर ।  नए नल कनेक्शन लेने वालों के लिए बुरी खबर है। बिना मीटर उन्हें कनेक्शन नहीं दिया जाएगा। सितंबर से मीटर लगाने का काम एलएडंटी कंपनी शुरू कर देगी। कंपनी को ठेका दिया गया है। पहले दौर में 30 हजार मीटर लगाए जाना प्रस्तावित है। वर्षों पूर्व योजना फेल हो चुकी है। एक बार फिर निगम जोरआ जमाइश कर रहा है। वर्तमान में शहर को तीसरे चरण का 450 एमएलडी पानी सप्लाय किया जा रहा है। इस पानी से मध्य क्षेत्र को एक दिन छोड़कर आपूर्ति की जाती है। बाहरी क्षेत्र व नगरीय सीमा में शामिल किए गए 29 गांव इससे अछूते हैं। इन इलाकों में बोरिंग, कुएं, तालाब के पानी से प्यास बुझाई जा रही है। गर्मी में जलसंकट दस्तक देते ही निगम टैंकरों से जलापूर्ति करता है। मीटर से होगी वसूली -नलों में मीटर लगने के बाद खपत के मान से शुल्क वसूला जाएगा। मीटर की रीडिंग का काम जोन स्तर पर किया जाएगा। बिल नहीं चुकाने पर कनेक्शन विच्छेद कर देंगे। मीटर घर की दीवार पर लगाया जाएगा, जिससे रीडिंग में आसानी रहेगी। चिप भी लगाएंगे - बिजली मीटरों की तरह नल के मीटर में छेड़खानी रोकने निगम चिप भी लगाएगा। चिप टूटी मिली या चकरी बंद मिली तो नल कनेक्शन काटने के साथ ही घर के मुखिया पर पुलिस प्रकरण भी दर्ज करेंगे। अमृत योजना से काम - दो साल पहले निगम ने अमृत योजना शुरू की थी। 600 करोड़ की योजना से नर्मदा पाइप लाइन बिछाने व पेयजल टंकियों का निर्माण तेजी से हो रहा है। दिसम्बर अंत तक योजना का सारा काम पूर्ण हो जाएगा। इसी दौरान मीटर लगाने का काम जोर पकड़ेगा। रोजाना देंगे पानी - निगम अभी एक दिन छोड़कर पानी सप्लाय कर रहा है। आबादी बढ़ने से पानी की खपत में इजाफा हुआ है। नर्मदा से तीसरे चरण में 45 एमएलडी पानी और लिया गया है, जिससे मध्य क्षेत्र में संकट लगभग खत्म हो गया है। हालांकि, अभी भी लोग एक दिन छोड़कर कम दबाव से पानी आने से परेशान है। अगस्त में नर्मदा नदी से प्रथम और द्वितीय चरण में पानी की मात्रा में 90 एमएलडी की अतिरिक्त व्यवस्था की जाएगी। इससे रोजाना पानी मिल सकेगा।