सरिया फैक्ट्री के कैशियर से चार लाख रुपए की लूट

सरिया फैक्ट्री के कैशियर से चार लाख रुपए की लूट

ग्वालियर ।   पुरानी छावनी थाना इलाके में दो बाइक सवार बदमाशों ने कट्टा लहराकर सरिया फैक्ट्री के कैशियर से चार लाख रुपए की घटना को अंजाम दे डाला। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना करने के उपरांत अज्ञात बदमाशों के खिलाफ लूट का प्रकरण दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक जनक हॉस्पिटल के समीप स्थित पवन विहार कॉलोनी में रहने वाले राजेश पुत्र लाल सिंह चंदेल (49 वर्ष) अंबा सरिया फैक्ट्री में कैशियर के रूप में कार्य करते हैं, जो सोमवार दोपहर 12 बजे के लगभग कंपनी के मालिक सुदर्शन गुप्ता के हनुमान चौराहा के समीप स्थित निवास से चार लाख रुपए लेकर बामौर में बने अंबा सरिया के प्लांट पर जा रहे थे। जब वह पुरानी छावनी के समीप स्थित करन होटल के निकट निर्माणाधीन पुलिया से होकर गुजर रहे थे, तभी पीछे से काली बाइक पर सवार होकर आए दो बदमाशों में से पीछे बैठे बदमाश ने राजेश की बाइक पर आगे रखे बैग को झपट्टा मारकर उठा लिया, जिससे बैलेंस बिगड़ने से राजेश की बाइक बंद हो गई। बैग छीने जाने पर राजेश ने शोर मचाया, तो पीछे वाले बदमाश ने कट्टा निकाल लिया, जिसे देखकर घबराया राजेश शांत रह गया। इसके बाद बदमाश तेज गति से बाइक दौड़ाकर वहां से गायब हो गए। उनके जाने के पश्चात् राजेश ने घटनास्थल से ही कॉल करके फैक्ट्री मालिक को लूट की जानकारी दी, तो उन्होंने एक कर्मचारी को मौके पर पहुंचाया, जिसके साथ राजेश ने थाने पहुंचकर पुलिस को घटना की सूचना दी, जिस पर पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर मुआयना करने के उपरांत अज्ञात लुटेरों के खिलाफ लूट का प्रकरण दर्ज कर लिया है।

नहीं देख सका बदमाशों का हुलिया

राजेश के मुताबिक बदमाशों ने इतनी तेजी से घटना को अंजाम दिया कि वह उनका हुलिया तक नहीं देख सका। बस वह केवल यही बता पा रहा है कि बाइक पर पीछे बैठा बदमाश मुंह पर साफी बांधे हुए था, वहीं घटनास्थल के इर्द-गिर्द कोई सीसीटीवी कैमरा भी नहीं लगा हुआ है, जिससे फिलहाल बदमाशों के संबंध में कोई सुराग नहीं लग सका है।

चार साल से कंपनी में कर रहा है काम

लूट का शिकार बने राजेश ने बताया कि गत चार वर्ष पूर्व जब से अंबा सरिया का प्लांट शुरू हुआ है, तब से उसमें कैशियर के रूप में काम कर रहा है। जो अमूमन रोजाना कैश लेकर प्लांट आता- जाता रहता है। कई बार तो रकम इससे भी ज्यादा होती है।