मवेशियों से हरियाली को बचाने के लिए सेंट्रलवर्ज की बढ़ा रहे ऊंचाई

मवेशियों से हरियाली को बचाने के लिए सेंट्रलवर्ज की बढ़ा रहे ऊंचाई

भोपाल। शहर को कैटल फ्री बनाने में नाकाम नगर निगम अब सड़कों के सेंट्रल वर्ज पर लगे पेड़-पौधों को पशुओं से बचाने के लिए सेंट्रलवर्ज की ऊंचाई करीब ढाई फीट बढ़ा रहा है। अब सेंट्रलवर्ज साढ़े तीन फीट ऊंचे होंगे। फिलहाल लिंक रोड नंबर-3 का सेंट्रलवर्ज ऊंचा करने का काम चल रहा है। इसमें करीब 16 लाख रुपए खर्च किए जा रहे हैं। निगम अधिकारियों का कहना है कि ये पायलट प्रोजेक्ट है। अगर सफल होता है, तो इसे अन्य जगहों पर भी अमल में लाया जाएगा। राजधानी में सेंट्रल वर्ज की ऊंचाई इंदौर की तर्ज पर बढ़ाई जा रही है। लेकिन शायद निगम अधिकारियों को पता नहीं है कि इंदौर कैटल फ्री हो चुका है और वहां आवारा मवेशी सड़कों पर नहीं दिखते।

इसलिए बढ़ा रहे ऊंचाई

अशोका गार्डन की 80 फीट रोड के सेंट्रल वर्ज में पिछले साल करीब 15 लाख रुपए की लागत से प्लांटेशन किया गया था, जो कि बर्बाद हो चुका है। पौधे और घास गायब हो चुकी है। जहां पौधे बचे हैं, तो उनकी हालत ठीक नहीं है। यह स्थिति इसलिए बनी, क्योंकि सेंट्रल वर्ज की ऊंचाई कम होने के कारण आवारा मवेशी उस पर चढ़ कर पौधों को या तो खा गए या फिर पैरों से कुचलकर नष्ट कर दिए। इसके बाद सेंट्रल वर्ज की ऊंचाई बढ़ाने का निर्णय लिया गया।