इन्फोसिस की अगुवाई में 160 अंक मजबूत हुआ सेंसेक्स

इन्फोसिस की अगुवाई में 160 अंक मजबूत हुआ सेंसेक्स

मुंबई। शेयर बाजारों में सोमवार को तेजी रही। सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी इन्फोसिस में अच्छी तेजी तथा वृहत आर्थिक परिदृश्य को लेकर अच्छे संकेतों से स्थानीय बाजारों में सोमवार को तेजी रही और बीएसई सेंसेक्स 160 अंक लाभ के साथ बंद हुआ। उतार-चढ़़ाव वाले कारोबार में तीस शेयरों वाला सेंसेक्स 160.48 अंक यानी 0.41 प्रतिशत की तेजी के साथ 38,896.71 पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह ऊचे में 39,023.97 तथा नीचे में 38,696.60 अंक तक गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 35.85 अंक यानी 0.31 प्रतिशत की बढ़त के साथ 11,588.35 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान सूचकांक 11,618.40-11,532.30 अंक के दायरे में रहा। सेंसेक्स के शेयरों में सर्वाधिक लाभ में इन्फोसिस का शेयर रहा। शुक्रवार शाम को घोषित कंपनी का वित्तीय परिणाम बेहतर रहने से यह शेयर 7.20 प्रतिशत बढ़त के साथ बंद हुआ। इन्फोसिस का बाजार पूंजीकरण 17,636.08 करोड़ रुपए बढ़कर 3,34,777.08 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। कंपनी का लाभ जून तिमाही में 5.3 प्रतिशत बढ़ा, जो उम्मीद से बेहतर है। साथ ही उसने चालू वित्त वर्ष के लिये आय की वृद्धि दर का अनुमान बढ़़ाया है। प्रतिद्वंद्वी कंपनी टीसीएस का शेयर भी 1.77 प्रतिशत जबकि टेक महिंद्रा 1.73 मजबूत हुए। वहीं एचसीएल टेक में 0.24 प्रतिशत की तेजी आयी। इन्फोसिस और टीसीएस में लाभ की अगुवाई में बीएसई आईटी सूचकांक 3.53 प्रतिशत मजबूत होकर 15,634.83 अंक पर पहुंच गया। कारोबारियों के अनुसार इन्फोसिस में तेजी के अलावा थोक मुद्रास्फीति में गिरावट का भी बाजार पर अच्छा प्रभाव पड़Þा। जून में थोक महंगाई दर घटकर 2.02 प्रतिशत पर आ गई जो 23 महीने का न्यूनतम स्तर है। सैंकटम वेल्थ मैनेजमेंट के मुख्य वित्त अधिकारी सुनील शर्मा ने कहा कि इन्फोसिस के वित्तीय परिणाम अच्छा रहने तथा कुछ औषधि और धातु कंपनियों के साथ प्रौद्योगिकी कंपनियों के शेयरों की अगुवाई में निफ्टी में तेजी आयी। कुछ बड़़ी कंपनियों के नतीजे आने से यह साफ है कि चीजें उतनी बुरी नहीं है जितना बाजार उम्मीद कर रहा था। सकारत्मक वैश्विक सकेतों के साथ बाजार को कुछ स्थिरता मिली।

डॉलर के मुकाबले रुपया बढ़त के साथ 68.54 पर

घरेलू शेयर बाजारों में तेजी और वैश्विक बाजारों में डॉलर में कमजोरी से सोमवार को रुपया 15 पैसे की बढ़त के साथ 68.54 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। अंतरबैंक विदेशी विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया 68.59 प्रतिशत डॉलर पर खुलने के बाद 68.51 प्रति डॉलर के उच्च स्तर तक गया। अंत में रुपया पिछले बंद से 15 पैसे की बढ़त के साथ 68.54 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। रुपए का पिछला बंद स्तर 68.69 प्रति डॉलर था। फॉरेक्स डीलरों ने कहा कि अन्य एशियाई मुद्राओं की तर्ज पर रुपया मजबूत हुआ। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के प्रमुख वी के शर्मा ने कहा कि चीन का आर्थिक वृद्धि का आंकड़ा उम्मीद के अनुरूप रहा है। कारखाना उत्पादन और खुदरा बिक्री के जून के आंकडेÞ उम्मीद से बेहतर रहे हैं।