दिग्विजय को हराना बिल्कुल भी कठिन काम नहीं: उमा

दिग्विजय को हराना बिल्कुल भी कठिन काम नहीं: उमा
Image Source - Wikipedia

भोपाल। केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़ने की खबरों के बीच पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा है। रविवार को सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा है कि उन्होंने कहा दिग्विजय को हराना कोई कठिन काम नहीं है। टीकमगढ़ पहुंची उमा भारती ने दिग्विजय को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह 15 साल पुराने पिटे मोहरे हैं। दिग्विजय सिंह को तो भाजपा का छोटा सा कार्यकर्ता ही हरा देगा। उनके लिए तो मौजूदा सांसद अलोक संजर ही काफी हैं। उन्होंने कहा कि वह दिग्विजय सिंह को 3/4 बहुमत से 2003 में ही शासन से बेदखल कर चुकी हैं। अब उनका रोल पूरा हो चुका है। इसके साथ ही उन्होंने भोपाल से चुनाव लड़ने की अटकलों पर विराम भी लगा दिया। इस संबंध में उमा भारती ने देर रात मीडिया को एक पत्र जारी किया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर ट्वीट कर कई भाजपा नेताओं के नामों का सुझाव भी दिया है, जो दिग्गी के सामने डटकर मुकाबला कर उन्हें हरा सकते हैं।

सबनानी, सारंग भी हरा सकते हैं चुनाव

उमा ने ट्विट में लिखा है कि भोपाल से उम्मीदवार तय करने का अधिकार उनके पास नहीं है। उस पर निर्णय संसदीय दल करता है। किंतु, एक बात तो ध्यान में रखनी पड़ेगी कि दिग्विजय सिंह को हराना बिल्कुल भी कठिन काम नहीं है। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में अपनी जीत की याद भी दिलाई है। उनका कहना है कि डॉ लक्ष्मीनारायण पांडे जी से मप्र के उस समय के सीएम कैलाश नाथ काट्जू विस का चुनाव हार गए थे। सुमित्रा महाजन से 1989 का लोस का इंदौर का चुनाव पूर्व मुख्यमंत्री पीसी सेठी हार गए थे। फिर सतना में कुश्वाहा से एवं होशंगाबाद में सरताज सिंह से पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह जी चुनाव हार गए थे। उनका कहना है कि भोपाल में तो आलोक संजर, कृष्णा गौर, रामेश्वर शर्मा, शैलेंद्र शर्मा, आलोक शर्मा, भगवान दास सबनानी, विश्वास सारंग इनमें से कोई भी दिग्विजय सिंह को चुनाव हरा देगा। गौरतलब है कि हाल ही में मीडिया में इस बात की खबरें आईं थी कि संघ ने उमा भारती को भोपाल से चुनाव लड़ने के लिए मना लिया है।