माफिया टाइप के लोगों से कमल नाथ जी का कोई संबंध नहीं, गलत हैं तो सीधे कार्रवाई: जयवर्धन

माफिया टाइप के लोगों से कमल नाथ जी का कोई संबंध नहीं, गलत हैं तो सीधे कार्रवाई: जयवर्धन
जय वर्धन सिंह पीपुल्स समाचार कार्यालय में
माफिया टाइप के लोगों से कमल नाथ जी का कोई संबंध नहीं, गलत हैं तो सीधे कार्रवाई: जयवर्धन

भोपाल।  नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह गुरुवार को भोपाल स्थित पीपुल्स समाचार के दफ्तर में थे। उन्होंने ग्रुप के डायरेक्टर श्री अम्बरीश शर्मा से सौजन्य भेंट की। इस दौरान सरकार के विजन और मिशन पर पीपुल्स समाचार के लिए विकास शुक्ला ने उनसे विशेष बातचीत की। सरकार के माफिया अभियान पर मंत्री ने कहा - कमल नाथ जी की सबसे अच्छी बात ये है कि उनका माफिया टाइप के लोगों से कोई संबंध नहीं है। कोई गलत है, तो उस पर सीधे कार्रवाई। पेश हैं मुख्य अंश...

सरकार के विजन पर :

सीएम साहब ने महिलाओं के लिए ई-सवारी (ई-रिक्शा योजना शुरू की थी। 50-60 दिन बाद मैं इंदौर गया। मैंने इसमें सवारी भी की। इन दौरान एक महिला ड्राइवर से बात की। पूछा कि कैसा रिस्पांस है। महिला ड्राइवर ने बताया कि रोज 1,000 रुपए तक रोज कमा रही हैं। आप विश्वास नहीं करेंगे, ये योजना हमने कभी सोची नहीं थी। लेकिन इसकी शुरुआत पर सीएम साहब ने कहा कि सब छोड़ो। सिर्फ ई-रिक्शा पर काम करो। इंदौर में यह बहुत सफल हुआ है। अब हम इसको सभी नगर निगम में करेंगे। हम बेस्ट क्वालिटी रिक्शे लेंगे। उज्जैन में भी हम इसे चालू कर रहे हैं। एक ई-रिक्शा 1.70 लाख का आता है। 80 हजार की सब्सिडी सरकार दे रही है। शेष पर सरकार सब्सिडी दे रही है।

मिशन पर :

शहरों के लिए हम बिल्कुल नए मिशन पर काम कर रहे हैं। बहुत जल्द ही भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर और उज्जैन के लिए 350 इलेक्ट्रिक बसें खरीदने जा रहे हैं। 100 भोपाल, 100 इंदौर, 50 जबलपुर, 50 ग्वालियर और 50 उज्जैन के लिए आएंगी। यानी हम नए मध्यप्रदेश की ओर बढ़ रहे हैं। सभी नगर निगमों में ई रिक्शा भी शुरू किए जाएंगे।

शहरों पर :

हम इंदौर में गुडगांव के साइबर सिटी की तर्ज पर 56 दुकान के पास का एरिया डेवलप कर रहे हैं। इसमें पूरी एलईडी स्क्रीन्स हेंगी। जगह-जगह बेंचेंज। फ्री व्हीकल जोन। शहरों में इसी तरह से काम करना है।

नगर निगम चुनाव पर :

हम अभी प्रोसेस कर रहे हैं। फरवरी तक वार्डों के आरक्षण का काम हो जाएगा। पहले अध्यक्ष का चुनाव होगा, फिर नगर निगमों का। हम तो खुद ही जल्दी चुनाव कराना चाहते हैं।

माफिया अभियान पर :

माफिया पर बहुत अच्छा काम हुआ है। उन्होंने कहीं भी कब्जा कर लिया था। सबसे बेस्ट कमल नाथ जी के बारे में ये है कि उनका मामला बिल्कुल क्लीन है। माफिया टाइप के लोगों से उनका कोई संबंध नहीं है। उन्हें कोई परवाह नहीं है। मतलब सीधे कार्रवाई। कोई गलत है तो ‘सही’ करो। इससे जनता खुश होती है।