बरई में पहाड़ी पर मिला तेंदुए का शव, तीन डॉक्टरों ने किया पीएम

बरई में पहाड़ी पर मिला तेंदुए का शव, तीन डॉक्टरों ने किया पीएम

ग्वालियर। सोनचिरैया अभ्यारण्य के तिघरा वन परिक्षेत्र अंतर्गत बीट पवा-पावठा व बरई गांव स्थित पहाड़ी पर तेंदुए का शव मिला। वन विभाग ने तीन डॉक्टरों से शव का परीक्षण कराकर वन डिपो में दाह संस्कार कर दिया। तेदुएं की मौत किन कारणों से हुई, इसका पता लगाने की जरूरत वन विभाग महसूस नहीं कर रहा है। विभाग की नजर में तेंदुए की मौत प्राकृतिक है। तेंदुए के शव की सूचना जैसे ही वन अधिकारियों को लगी तो पांव तले जमीन खिसक गई। आनन- फानन में वनसंरक्षक ओपी उचाड़िय़ा, घाटीगांव एसडीओ जीएल जोनवार, वनपरिक्षेत्र अधिकारी ज्योति छाबरिया सहित जिम्मेदार वन अमला मौके पर पहुंच गया। एसडीए जोनवार ने बताया कि गुरूवार की सुबह 10-11 बजे के लगभग वनरक्षक भुवनेश राजौरिया इस क्षेत्र में गस्त कर रहे थे, तभी तेंदुए का शव देखने को मिला। उन्होंने यह सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी। वन अधिकारियों ने बताया कि तेंदुआ नर है और वह प्रौढ़ है। उसके अंगों से कोई छेड़खानी नहीं है, इससे ज्ञात होता है कि इसका शिकार नहीं हुआ है। तेंदुए के शव को पोस्टमार्टम के लिए विक्की फैक्ट्री स्थित वन डिपो में लाया गया, जहां पशु चिकित्सक डॉ. आरएम स्वामी, डॉ. मनीष त्रिपाठी एवं डॉ. विजय रावत ने पोस्टमार्टम कर विसरा आदि के सैम्पल लिए, और उसके बाद डिपो में ही उक्त शव का दाह संस्कार किया गया। बता दें कि तीन साल के अंदर आधा दर्जन से अधिक तेंदुओं की मौत हो चुकी है।