प्रयाग कुंभ में ‘दलितों’ को मिली महंताई, जूना अखाड़ा ने की शुरुआत

प्रयाग कुंभ में ‘दलितों’ को मिली महंताई, जूना अखाड़ा ने की शुरुआत

इंदौर। मंदिर और धर्मगुरुओं के लिए उपेक्षित समझे गए दलित अब संन्यासी बनने की राह पर हैं। जूना अखाड़े ने इस नवाचार की शुरुआत की है। प्रयागराज कुंभ में अखाड़े के संत कन्हैया प्रभुनंदगिरि को महामंडलेश्वर की गद्दी पर बैठाया गया है। 13 अखाड़ों के 50 साधु अब महंताई की कतार में हैं। 100 से अधिक दलित साधक संन्यासी का चोला ओढ़ने अखाड़ों में दस्तक दे रहे हैं। इससे पहले केवल ब्राह्मणों को ही महामंडलेश्वर और अखाड़े के अन्य पदों पर विराजित किया जाता था।