केरल से आए मेकअप आर्टिस्ट और वादक ताकि विशुद्ध नृत्य प्रस्तुत करने का दे सकें मौका

केरल से आए मेकअप आर्टिस्ट और वादक ताकि विशुद्ध नृत्य प्रस्तुत करने का दे सकें मौका

भोपाल  ।  भरतनाट्य, मोहिनीअट्टम और कुचिपुड़ी जैसी भारतीय नृत्य शैलियों की प्रस्तुति 8 से लेकर 25 साल तक के नवोदित कलाकारों दी। मौका था, कैंपियन स्कूल सभागार में कला संस्थान श्री लयम नाट्यश्री कला समिति के 17 वें वार्षिक उत्सव का। भारतीय शैलियों को उनके विशुद्ध रुप में प्रस्तुत करने के लिए रूप सज्जा से लेकर संगीतज्ञ तक केरल से बुलाए गए, जिसमें 11 कलाकार शामिल रहे। ऐसा इसलिए ताकि नृत्य की शुद्ध प्रस्तुतियां दर्शक सीख सकें। सभी के कास्ट्यूम भी दक्षिण भारत से तैयार करवाए गए। कार्यक्रम में एक कमल का फोम से बना फूल तैयार करवाया गया। काफी बड़े आकार की यह प्रापर्टी प्रस्तुति को मोहक बना रही थी। इसके अलावा पुष्पांजली, गणेश वंदना, कुचीपुडी पूजा, शिवस्तुति और दशावतार की प्रस्तुति दी गई। सभी प्रस्तुतियों में केरल के कलाकारों ने लाइव म्यूजित दिया।