ममता से शांति और विकास की उम्मीद थी, जो पूरी नहीं हुई

ममता से शांति और विकास की उम्मीद थी, जो पूरी नहीं हुई

इंदौर। सांसद और 16वीं लोकसभा की स्पीकर सुमित्रा महाजन ने गुरुवार को इंदौर में कहा कि ममता बनर्जी ने संघर्ष के बाद सत्ता पाई है, उनसे शांति और विकास की उम्मीद थी, जो पूरी नहीं हुई। मीडिया से चर्चा के दौरान महाजन ने कांग्रेस की न्याय योजना पर भी निशाना साधा। सालों से रही सत्ता ने वातावरण बिगाड़ा महाजन ने कहा कि देश के स्वतंत्रता संग्राम के समय पश्चिम बंगाल से आजादी के कई आंदोलनकारी सामने आए, वहां से काफी अच्छा साहित्य निकला है। पश्चिम बंगाल का अपना एक बौद्धिक स्तर है। मगर आजादी के बाद वहां सालों से जो सत्ता रही उसने वहां का वातावरण बिगाड़ा। उस सत्ता से ममता बनर्जी ने टक्कर ली। उन्होंने बहुत अच्छे तरीके से उस समय के वहां के शासन से लड़ाई लड़ी और तृणमूल की सरकार स्थापित की। उनके सत्ता में आने के बाद वहां के लोगों को उम्मीद थी कि अब वहां शांति और विकास होगा। संघर्ष के बाद शांति और अच्छे प्रशासन की उम्मीद थी लेकिन लग रहा है कि ऐसा हुआ नहीं है। वहां विकास, शांति नहीं हो पाई। आज भी वहां ऐसा संघर्ष क्यों हो रहा है।

गुमराह करने लाए न्याय योजना

कांग्रेस की न्याय योजना पर भी महाजन ने निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पिछले 70 साल में क्यों न्याय नहीं दे पाई। कांग्रेस ने ही गरीबी हटाओ का नारा दिया था लेकिन गरीबी नहीं हटी। अब लोगों को गुमराह करने के लिए फिर से नई योजना लेकर आ गए। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को कुछ दिन और विपक्ष में बैठने की जरूरत है।