विजिटिंग कार्ड वायरल होते ही आए कई कॉल्स, बंद किया फोन

विजिटिंग कार्ड वायरल होते ही आए कई कॉल्स, बंद किया फोन

पुणे। सोशल मीडिया पर पुणे की रहने वाली गीता काले चर्चा में थीं। गीता हाउस हेल्प का काम करती हैं। आम समझ के लिए वह कामवाली बाई हैं। गीता काले अपने दिलचस्प विजिटिंग कार्ड के कारण चर्चा में हैं। आम तौर पर घरों में काम करने वाली मेड के पास ऐसा कुछ होता नहीं है। जब से विजिटिंग कार्ड वायरल हुआ है, उन्हें ढेर सारे फोन कॉल्स आ रहे हैं। हालात ऐसे बन गए हैं कि गीता को अपना फोन स्विच आॅफ करना पड़ा। गीता काले के वायरल विजिटिंग कार्ड के पीछे की कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है। बताया जाता है कि पुणे के बावधन इलाके में घरेलू काम करने वाली गीता की नौकरी हाल ही छूट गई थी, जिसके चलते वह दुखी और उदास थी। गीता की इसी उदासी को दूर करने के लिए पेशे से एक निजी कंपनी में ब्रांडिंग और मॉर्केटिंग सीनियर मैनेजर धनश्री शिंदे आगे आर्इं। गीता काले धनश्री के यहां भी काम करती हैं। ऐसे में उन्हें दुखी देखकर धनश्री के मन में एक विचार आया। उन्होंने एक विजिटिंग कार्ड छपवाया, ताकि गीता को काम मिल सके। 

कार्ड पर हर काम और उसके रेट का जिक्र :

धनश्री शिंदे ने गीता काले के लिए जोबिजनेस कार्ड बनवाया है, उस पर लिखा है, घर काम मौसी इन बावधन। इस कार्ड में हर उस काम का जिक्र और उसका रेट लिखा हुआ है, जो गीता करती हैं। इसमें यह भी लिखा है कि गीता जी के पास आधार कार्ड भी है। 

नए काम के लिए मिले ढेर सारे ऑफर्स 

अपनी मेड की उदासी देख धनश्री शिंदे ने 24 घंटे के भीतर ही गीता के लिए 100 विजिटिंग कार्ड बनवाए। शिंदे ने गीता से कहा कि वह आस पड़ोस के हर घर में अपना कार्ड बांट दे। उम्मीद थी कि जल्द ही गीता काले को कहीं ना कहीं से नया काम मिल जाएगा। इस बीच गीता काले के कार्ड की एक फोटो सोशल मीडिया पर भी सामने आ गई, जिसके बाद उन्हें देशभर से फोन कॉल्स आ रहे हैं। गीता काले को कई लोगों ने काम भी आॅफर किया है। उनका फोन लगातार बजने लगा और कई लोगों ने तो उन्हें उनके तय मेहनताना से ज्यादा पैसे आॅफर किए।