विधायकों को खिलाने-पिलाने का काम कर रहे हैं मंत्री: भार्गव

विधायकों को खिलाने-पिलाने का काम कर रहे हैं मंत्री: भार्गव

भोपाल। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने मानसून सत्र के पांचवें दिन बजट पर चर्चा के दौरान कहा कि यह विचित्र सरकार है सभी मंत्रियों को कैबिनेट मंत्री बना दिया। विधायकों को खिलाने-पिलाने का काम किया जा रहा है। इस पर सत्तापक्ष के विधायकों ने आपत्ति जताई और गोपाल भार्गव के बयान को विधायकों का अपमान बताया। भार्गव ने कहा कि ये सरकार खोखली है। विधायकों को खिलाने पलाने की जिम्मेदारी मंत्रियों को दी गई है। नेता प्रतिपक्ष ने बाद मे सफाई देते हुए कहा कि उनकी बात को गलत अर्थ में ले लिया गया है। वे इसके स्थान पर ‘केयरटेकर’ शब्द को इस्तेमाल करना चाहेंगे। दरअसल, इसके पहले भार्गव ने चर्चा में शामिल होते हुए कहा था कि एकएक मंत्री को तीन-तीन विधायकों को खिलाने- पिलाने और सुलाने का जिम्मा दिया गया है।

नोट गिनने की टिप्पणी पर भी मचा हंगामा

भार्गव ने तबादलों को लेकर नोट गिनने की मशीन से संबंधित टिप्पणी की, जिस पर फिर हंगामा मच गया। इसके बाद मंत्रियों और कांग्रेस विधायकों ने पूर्ववर्ती भाजपा सरकार को निशाने पर लिया। भार्गव ने बजट पर हुई चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि जीएसटी राजस्व में 70 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाई गई है। ऐसा होने से केंद्र से प्राप्त होने वाली क्षतिपूर्ति राशि स्वयं ही कम हो जाएगी।