17 साल की उम्र में लुधियाना से शुरू किया था संगीत का सफर

17 साल की उम्र में लुधियाना से शुरू किया था संगीत का सफर

मुंबई। मशहूर संगीतकार खय्याम (92) का सोमवार रात 9:30 बजे मुंबई सुजॉय अस्पताल में निधन हो गया। उनकी मौत की वजह कार्डिएक अरेस्ट बताई जा रही है। उन्हें तबीयत खराब होने के चलते कुछ दिन पहले अस्पताल लाया गया था। 16 अगस्त को उनके आईसीयू में होने और हालत नाजुक होने की रिपोर्ट्स सामने आई थीं। जानकारी के अनुसार वह गंभीर लंग इंफेक्शन से भी जूझ रहे थे। उन्होंने कभी-कभी और उमराव जान जैसी फिल्मों का म्यूजिक कंपोज किया था। लंग इंफेक्शन व ज्यादा उम्र के चलते उनका शरीर काफी कमजोर हो चुका था। वह 21 दिन से अस्पताल में भर्ती थे।

उमराव जान से मिला था मेजर ब्रेक

खय्याम ने कई हिट फिल्मों जैसे 'कभी-कभी' और 'उमराव जान' के लिए म्यूजिक कंपोज किया था। इन मूवीज के गाने एवरग्रीन माने जाते हैं। मोहम्मद जहुर 'खय्याम' हाशमी ने संगीत की दुनिया में अपना सफर 17 साल की उम्र में लुधियाना से शुरू किया था। उन्हें अपने कॅरियर का पहला मेजर ब्रेक ब्लॉकबस्टर मूवी 'उमराव जान' से मिला था, जिसके गाने आज भी लोगों के दिलों में जगह बनाए हुए हैं। खय्याम को इस फिल्म के बेहतरीन संगीत के लिए नेशनल अवॉर्ड व फिल्मफेयर अवॉर्ड के साथ ही कई पुरस्कारों से नवाजा गया था। खय्याम के नॉन-फिल्मी गानों को भी फैन्स काफी पसंद करते हैं, खासतौर पर 'पांव पड़ूं तोरे श्याम', 'बृज में लौट चलो' और 'गजब किया तेरे वादे पर ऐतबार किया'। उन्होंने मीना कुमारी की एल्बम, जिसमें एक्ट्रेस ने कविताएं गाई थीं, उसके लिए भी म्यूजिक कंपोज किया था।