नृत्य के जरिए पर्यटकों को भारतीय संस्कृति से रूबरू कराते हैं नागेंद्र

नृत्य के जरिए पर्यटकों को भारतीय संस्कृति से रूबरू कराते हैं नागेंद्र

मदुरै। टूरिस्ट गाइड विदेशी सैलानियों को देश की सांस्कृतिक विरासत और इतिहास से रूबरू कराने का काम करता है, लेकिन तमिलनाडु के मदुरै के नागेंद्र प्रभु नाम के टूरिस्ट गाइड ने इस काम के जरिए न सिर्फ देश की पहचान बुलंद की है, बल्कि खुद का नाम भी चर्चा में ला दिया है। वो विदेशी सैलानियों को क्लासिक डांस मुद्राओं के जरिए देश की सांस्कृतिक विरासत और इतिहास से रूबरू करा रहे हैं। उनके इस अलहदा अंदाज से सैलानी भी काफी खुश हैं। केवल विदेशी सैलानी ही नहीं, देश के अलग-अलग हिस्सों से मदुरै घूमने आने वाले लोग भी नागेंद्र की इस अंदाज को देखकर खुश हो जाते हैं। मदुरै घूमने आने वाले सैलानियों को वो यहां के मंदिरों के बारे में समझाने के लिए नृत्य मुद्राओं का सहारा लेते हैं। देश की संस्कृति और इतिहास से रूबरू कराने के उनके इस अंदाज को देखकर विदेशी सैलानी भी खुश हो जाते हैं और उनकी तरह मुद्राएं बनाने का मौका नहीं छोड़ते। 

सैलानियों को लुभाती हैं नृत्य की मुद्राएं :

नागेंद्र अलग-अलग नृत्य मुद्राओं और चेहरे के हाव-भाव के जरिए सैलानियों को यहां के मंदिरों, पुरातात्विक महत्व की इमारतों के किस्से-कहानियां समझाते हैं। उनके इस अनूठे अंदाज को सैलानी भी काफी पसंद करते हैं। 

टूरिस्ट गाइड से पहले था शिक्षक, बच्चों का समझाना होता था

आसान इस पेशे में आने से पहले मैं एक शिक्षक था। उस दौर में भी मैं बच्चों को कठिन विषयों को समझाने के लिए इसी तरह की मुद्राओं और हाव-भाव का सहारा लेता था। इससे बच्चे काफी खुश रहते थे और उन्हें पढ़ने में काफी मजा आता था। आज मैं यही तरीका बतौर टूरिस्ट गाइड आजमा रहा हूं, जो लोगों को काफी पसंद आ रहा है। - नागेंद्र प्रभु, टूरिस्ट गाइड, मदुरै, तमिलनाडु