तीन भारतीय पर्वतारोहियों के खिलाफ नेपाल ने जांच शुरु की

तीन भारतीय पर्वतारोहियों के खिलाफ नेपाल ने जांच शुरु की

काठमांडू। दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट को 26 मई को फतह करने के दावा करने वाले भारत के तीन पर्वतारोहियों के खिलाफ नेपाल सरकार ने जांच शुरु कर दी है। एक रिपोर्ट के अनुसार हरियाणा के विकास राणा, शोभा बनवाला और अंकुश कसाना को माउंट एवरेस्ट फतह करने के दस्तावेजी प्रमाण दिखाने के लिए कहा गया है। इन तीनों के दावे के बाद इनका अपने गृहनगर लौटने पर भव्य स्वागत किया गया था। अखबार हिमालयन टाइम्स ने दावा करते हुए कहा है कि इन तीनों पर्वतारोहियों ने कैंप-3 भी पार नहीं किया था जो शिखर पर चढ़ने से 1300 मीटर पहले आखिरी पड़ाव से पहले का पड़ाव था। हिमालयन टाइम्स ने दावा किया है कि इन तीनों के पास एवरेस्ट फतह करने की कोई फोटो नहीं है और ना ही शेरपा ने ऐसा कोई दावा किया है। इसके अलावा नेपाल के पर्यटन विभाग ने तीनों को कोई सर्टिफिकेट भी नहीं दिया है। उल्लेखनीय है कि हर पर्वतारोही के साथ एक शेरपा का रहना अनिवार्य है। रिपोर्ट के मुताबिक जब तीनों पर्वतारोहियों से उनके शेरपा के नाम पूछे गए तो वे उनका नाम तक नहीं बता सके। तीनों पर्वतारोहियों ने दावा किया था कि सिर्फ इन तीनों और इनके चार शेरपा ने 26 मई को दुनिया की सबसे ऊंची चोटी को फतह किया था।