देश के खिलाफ ‘जिहाद’ छेड़ने की थी तैयारी, NIA का 10 ठिकानों पर छापा

देश के खिलाफ ‘जिहाद’ छेड़ने की थी तैयारी, NIA का 10 ठिकानों पर छापा

सलेम (तमिलनाडु)। आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) को समर्थन देने के आरोप में दर्ज हुए मुकदमों के सिलसिले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने तमिलनाडु में एक साथ 10 ठिकानों पर छापे मारे हैं। छापेमारी की यह बड़ी कार्रवाई सोमवार को हुई।तमिलनाडु के तीन जिलों में 8 अलग-अलग जगहों पर 8 जनवरी को 8 संदिग्धों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। संदिग्धों पर आरोप लगाए गए थे कि वे हिंदुस्तान में हमले को लेकर आईएस के साथ कोई बड़ी साजिश रच रहे हैं। इसके लिए उन्होंने जेल से रिहा हुए लोगों को जिहादी बनाने की तैयारी की थी। जिन लोगों के खिलाफ छापेमारी हुई है उनके नाम हैं-शेख दाऊद, मोहम्मद रियाज, सादिक, मुबरिस अहमद, रिजवान और हमीद अकबर। इन आरोपियों के खिलाफ उनके रामनाथपुरम, सलेम और चिदंबरम स्थित ठिकानों पर छापे मारे गए। एनआईए की सोमवार की कार्रवाई का सीधा संबंध श्रीलंका में ईस्टर के दिन हुए सिलसिलेवार फिदायीन धमाके से जुड़ा है। श्रीलंका के इतिहास में हुई इस सबसे बड़ी और निर्मम घटना में 253 बेगुनाह लोग मारे गए थे। इसी बीच आतंकियों ने एक साथ कई जगहों पर धमाके किए। इस धमाके का असर अब भी श्रीलंका में देखा जा रहा है।

आतंकियों को छुड़ाने जुटा रहे थे पैसा

सोमवार की छापेमारी में एनआईए ने 3 लैपटॉप, 3 हार्ड डिस्क, 16 मोबाइल फोन, 2 पेन ड्राइव, 5 मेमोरी कार्ड, दो चाकू और बड़ी मात्रा में संदिग्ध दस्तावेज बरामद किए हैं। पिछले साल अप्रैल में इन सभी संदिग्धों के खिलाफ एक मुकदमा दर्ज किया गया था। इन पर इनके आतंकी संगठन के लिए हथियार इकट्ठा करने, सशस्त्र संघर्ष और जेलों में बंद आतंकियों को छुड़ाने के लिए पैसे जुटाने का आरोप है। इनके इस काम का मकसद देश के खिलाफ ‘जिहाद’ छेड़ना था।

‘शहादत ही हमारा लक्ष्य’ बनाया था वॉट्सएप ग्रुप

आरोपियों ने ‘शहादत ही हमारा लक्ष्य है’ नाम से एक वॉट्सएप ग्रुप बनाया था। 2 अप्रैल 2018 को तमिलनाडु के रामनाथपुरम स्थित कीलाकरई थाने में इनके खिलाफ केस दर्ज किया था। एनआईए ने सोमवार को तमिलनाडु में इन संदिग्धों के 10 अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी की। ये छापेमारी राज्य के मुथुपेट, सलेम, लालपेट, देवीपट्टिनम में की गई है।

हाशिम-जाकिर नाइक से थे अबूबकर के रिश्ते

श्रीलंका में धमाकों के सुराग हिंदुस्तान में खोजने के क्रम में एनआईए ने अप्रैल में 29 साल के रियाज अबूबकर को गिरμतार किया था। अबूबकर ने जो राज उगले। इसमें यह पता चला कि इस्लामिक स्टेट तमिलनाडु में अपने स्लिपर सेल चला रहा है। ये स्लीपर सेल पोपुलर फ्रंट आफ इंडिया के बैनर तले चलाए जाने की जानकारी मिली। हिंदुस्तान में यह फ्रंट तौहीद जमात का एजेंडा चलाने का काम कर रहा था। पूछताछ में इसने अपने रिश्ते श्रीलंका में धमाकों को अंजाम देने वाले जहरान हाशिम और जाकिर नाइक से बताए थे।

केरल में खुद को उड़ाना चाहता है अबूबकर

एनआईए के मुताबिक, अबूबकर ने कबूल किया है कि वह केरल में खुद को विस्फोट से उड़ाने की योजना बना रहा था और इसके लिए वह भर्ती करने की कोशिश कर रहा है और तीन लोगों के संपर्क में था। अबूबकर की हिरासत की याचिका में एनआईए ने जिक्र किया है कि उसे मामले में आगे की पूछताछ के लिए उसकी जरूरत है और इससे केरल में भविष्य में किसी तरह की परेशानी खड़ा करने के प्रयास को खत्म करने में मदद मिलेगी।

आरोपियों के खिलाफ जारी हुआ था समन

सूत्रों के अनुसार जिन आरोपियों के खिलाफ छापेमारी हुई है, उनमें कई लोगों को जांच एजेंसी ने पूछताछ के लिए समन जारी किया था लेकिन वे हाजिर नहीं हुए। बीते 2 मई को एनआईए ने तमिलनाडु स्थित पॉपुलर फ्रंट आॅफ इंडिया के 8 ठिकानों और तौहीद जमात के 3 स्थानों पर छापे मारे थे। इससे मिली जानकारियों के बाद एजेंसी ने तमिलनाडु में सोमवार को छापेमारी की कार्रवाई की।