बजाज की सोच के प्रचार से राष्ट्र का नुकसान हो सकता है

बजाज की सोच के प्रचार से राष्ट्र का नुकसान हो सकता है

नई दिल्ली। उद्योगपति राहुल बजाज की टिप्पणी पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि अपनी खुद की राय का प्रचार करने से ‘‘राष्ट्रीय हित का नुकसान हो सकता है। बजाज ने पिछले दिनों मुंबई में एक समारोह में गृहमंत्री अमित शाह और कुछ अन्य वारिष्ठ मंत्रियों के सामने नरेन्द्र मोदी सरकार की आलोचना करते हुए कहा था कि इस एस समय उद्योग जगत को सरकार के खिलाफ कुछ बोलने में डर लगता है।

सोशल मीडिया में तीखी प्रतिक्रिया

शनिवार शाम को इकोनोमिक टाइम्स के ईटी प़ुरस्कार वितरण समाराह में शाह के अलावा रेल, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और सीतारमण भी थीं। शाह ने बजाज की बात का जवाब देते हुए कहा था कि किसी को भी किसी चीज से डरने की जरूरत नहीं है। मीडिया में नरेंद्र मोदी सरकार की लगातार आलोचना होती रही है। गृह मंत्री ने यह भी कहा था कि ‘‘यदि आप कहते हैं कि इस तरह का माहौल है तो हमें इसमें सुधार करने के लिए काम करने की जरूरत है। बायोकॉन की चेयरपर्सन किरण मजूमदार शा ने बजाज की बात का सोमवार को समर्थन किया। उन्होंने कहा कि सरकार भारतीय उद्योग जगत को ‘अछूत’ समझती है और अर्थव्यवस्था को लेकर किसी तरह की आलोचना को सुनना नहीं चाहती है। रविवार को ट्वीट कर शा ने कहा, ‘‘उम्मीद है कि सरकार भारतीय उद्योग जगत से बात करेगी और उपभोग और वृद्धि को प्रोत्साहन के लिए कोई समाधान निकालेगी। इसके तत्काल बाद सीतारमण ने ईटी कार्यक्रम का वीडियो जारी करते हुये कहा, ‘‘किस प्रकार गृह मंत्री अमित शाह ने राहुल बजाज द्वारा उठाए गए मुद्दों का जवाब दिया। सवालों और आलोचना को सुना गया और उनका जवाब-समाधान दिया गया। उन्होंने कहा, ‘‘किसी की निजी सोच को फैलाने के बजाय बेहतर यही होगा कि जवाब मांगा जाये। इस तरह का प्रसार तेज होने से राष्ट्र हित को नुकसान पहुंच सकता है। सीतारमण के इस बयान के बाद कांग्रेस ने सरकार की आलोचना की है। कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा, राहुल बजाज ने सिर्फ यह कहा था कि उद्योग जगत सरकार की आलोचना करने से डरता है।