2016 के अमेरिकी चुनाव में पुतिन की थी भूमिका

2016 के अमेरिकी चुनाव में पुतिन की थी भूमिका

न्यूयॉर्क। अमेरिकी खुफिया एजेंसी (सीआईए) के एक एजेंट ने 2016 में हुए अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव को लेकर खुलासा किया है। उसने सोमवार को न्यूयॉर्क टाइम्स से कहा कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अमेरिकी चुनाव में हस्तक्षेप के लिए अपने खुफिया अधिकारियों को आदेश दिए थे। तब मैं भी रूस के उच्च अधिकारियों में शामिल था। इसकी एक रिपोर्ट मैंने 2016 में ही सीआईए को भेजी थी। एक रिपोर्ट के मुताबिक, सीआईए एजेंट के परिजन ने बताया है कि वह पुतिन के आंतरिक मामलों में शामिल नहीं था, लेकिन रूस सरकार से जुड़े उच्च स्तरीय फैसले लेने वाले अधिकारियों में शामिल था। एजेंट ने दावा किया कि पुतिन ने व्यक्तिगत तौर पर आदेश दिए और चुनाव को प्रभावित करने के लिए उच्च स्तरीय गुप्त योजनाएं बनाई थीं। वहीं अमेरिका की खुफिया एजेंसी ने इसका खंडन किया।

2016 में भी एजेंट ने जानकारी दी थी

रिपोर्ट के मुताबिक, सीआईए एजेंट ने 2016 में भी यह जानकारी दी थी। यह जानकारी इतनी महत्वपूर्ण और विवादास्पद थी कि शीर्ष सीआईए अधिकारियों ने एजेंट के रिकॉर्ड और उसकी जानकारी की पूरी समीक्षा करने का आदेश दिया था। एजेंट ने कहा कि सीआईए को खुफिया जानकारी देने के कारण उनका करियर प्रभावित हुआ। उसे फिर कोई काम नहीं दिया गया और 2017 में रूस से निकाल दिया गया।

448 पेज की तैयार की गई थी एक रिपोर्ट

इससे पहले अमेरिका के विशेष अधिवक्ता रॉबर्ट मुलर ने भी दावा किया था कि डोनाल्ड ट्रम्प को जिताने के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अमेरिकी चुनाव में दखल दिया था। 74 वर्षीय मूलर ने 448 पेज की एक रिपोर्ट तैयार की थी, जिसमें उन्होंने कहा, रूसी सेना के अधिकारियों ने डेमोक्रेट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन के चुनाव अभियान को प्रभावित करने की कोशिश की थी।