आरटीओ का कमाल : 12 मिनट की फिटनेस जांच सिर्फ 2 मिनट में होती है पूरी, वाहन हो जाता है पास

आरटीओ का कमाल : 12 मिनट की फिटनेस जांच सिर्फ 2 मिनट में होती है पूरी, वाहन हो जाता है पास

भोपाल ।   दोपहर 3.04 बजे ट्रक (एमपी 04 एचई 2888) रैंप पर पहुंचा। फिटनेस ब्रांच के कर्मचारी ने तीनों एंगल (फ्रंट, लेμट व राइट) पर लगे कैमरे से फोटो क्लिक किए। यह फोटो सॉμटवेयर की मदद से कम्प्यूटर में फीड हो गए और दो मिनट बाद ही 3. 06 बजे ट्रक रवाना हो गया और उसके ठीक पीछे लगा दूसरा वाहन रैंप पर आ जाता है। इस दौरान आरटीओ की तरफ से कोई भी अधिकारी मौजूद नहीं था। क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में फिटनेस जांच इसी तरह की जाती है। इस जांच में बमुश्किल डेढ़ से दो मिनट का समय लगता है। 1 मिनट 16 सेकंड में हुई ट्रैक्टर की जांच : फिटनेस जांच के लिए एक ट्रैक्टर (एमपी 04 एएच 8479) दोपहर 03:06 बजे पर रैंप पर आता है और 01 मिनट 16 सेकंड में यह ट्रैक्टर अपनी फिटनेस पूरी करके चला भी जाता है। हम आपको बता दें कि आरटीओ में रोजाना सुबह 10 से शाम पांच बजे के बीच मात्र आठ घंटे में 70 गाड़ियों के फिटनेस सर्टिफिकेट जारी हो जाते है। कभी- कभी यह आंकड़ा 100 के पार तक पहुंच जाता है।

सही जांच के लिए 1012 मिनट '

और स्कूल बस में 25 मिनट मोटर व्हीकल एक्ट के अनुसार वाहनों के दस्तावेज जमा होने के बाद ट्रांसपोर्ट इंस्पेक्टर फिजिकल इंस्पेक्शन करते हैं। इसके बाद फिटनेस जांच की जाती है। इस प्रक्रिया से 10 से 12 मिनट लगते हैं स्कूल बसों की बात करें तो इसमें 25 मिनट का समय लगता है।