रिटायर्ड बैंक कैशियर की देह अब आएगी मेडिकल स्टूडेंट्स के काम

रिटायर्ड बैंक कैशियर की देह अब आएगी मेडिकल स्टूडेंट्स के काम

जबलपुर ।  छिंदवाड़ा की फ्रेंड्स कॉलोनी निवासी एक रिटायर्ड बैंक कैशियर की देह अब मेडिकल स्टूडेंट्स की शिक्षा के काम आएगी। रिटायर्ड बैंक कर्मी की यह इच्छा थी और उन्होंने यह बात सिर्फ अपनी पत्नी से बताई थी। मंगलवार को जब उनके अंतिम संस्कार की तैयारियां चल रही थीं, तभी पत्नी ने परिजनों को यह जानकारी दी और पति की अंतिम इच्छा पूरी कराई। रिटायर्ड बैंक कैशियर सत्यप्रकाश शुक्ला अपनी पुत्री के ससुर की तेरहवीं संस्कार में शामिल होने दुर्ग छत्तीसगढ़ गए हुए थे। इस दौरान सत्यप्रकाश शुक्ला का हृदयाघात से दुर्ग में ही निधन हो गया। उनकी पार्थिव देह मंगलवार की सुबह छिंदवाड़ा लाई गई। रिश्तेदार तथा परिजन अंतिम संस्कार की तैयारियों में लगे थे, इसी बीच स्व. शुक्ला की पत्नी सुधा शुक्ला ने जानकारी दी कि उनके पति ने अपनी देह मेडिकल स्टूडेंट्स की शिक्षा के लिए दान करने की इच्छा व्यक्त की थी। परिजनों के बीच विचार विमर्श हुआ और इस इच्छा की पूर्ति के लिए सभी तैयार हो गए।

मेडिकल कॉलेज को सौंपा शव

परिजनों ने छिंदवाड़ा इंस्टीट्यूट आॅफ मेडिकल साइंस के अधिकारियों से संपर्क कर सभी तरह की औपचारिकताएं पूर्ण करार्इं। इसके बाद शव को सौंप दिया गया। जिसे फ्रीजर में रखवा दिया गया है। उल्लेखनीय है कि जिले में यह पहला मामला है जब मेडिकल कॉलेज के स्टूडेंट्स के लिए किसी ने देहदान किया है। शुक्ला परिवार की यह पहल मेडिकल कॉलेज के लिए एक बड़ी उपलब्धि है।