बच्चा चोर गिरोह की अफवाह, कई जगह संदिग्ध पकड़े, भीड़ ने पीटा

बच्चा चोर गिरोह की अफवाह, कई जगह संदिग्ध पकड़े, भीड़ ने पीटा

ग्वालियर। ग्वालियर-चंबल अंचल में बच्चा चोर गिरोह सक्रिय होने की अफवाह ने स्कूली बच्चों और उनके अभिभावकों में दहशत पैदा कर दी है। इसी दहशत के चलते भिंड में बुधवार की सुबह लहार रोड, बहोड़ापुर से एक-एक बाबा को पकड़ा । जबकि दो रोज पहले गुढ़ागुड़ी का नाका से एक युवक को भीड़ ने दबोच लिया और पेड़ से बांधकर पीटा। इन अफवाहों के बीच पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने एक एडवायजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि यह सिर्फ अफवाह है। इनसे लोग सावधान रहें। बुधवार की सुबह बहोड़ापुर रोड से बाबाओं की टोली कहीं जा रही थी, भीड़ ने देखा और उन्हें पकड़ लिया। भीड़ ने बिना किसी बात की पुष्टि किए और उनके साथ मारपीट कर डाली और पुलिस के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने बाद में इन बाबाओं को यह कहते हुए छोड़ दिया कि यह लोग बच्चा चोर नहीं हैं। इसी तरह दो रोज पहले गुढ़ागुड़ी नाका से एक युवक को भीड़ ने दबोच लिया था। इस पर भी यही संदेह किया गया था कि यह एक बच्चे को चुराकर ले जा रहा था। हालांकि ऐसा कुछ निकला नहीं । जब तक पुलिस आती तब तक उसकी हजामत बन चुकी थी। इसी तरह महाराजपुरा में एक विक्षिप्त महिला एक स्कूली बच्चे से बात कर रही थी तब तक भीड़ ने घेर लिया। बाद में पुलिस ने उसे मानसिक आरोग्यशाला में भर्ती कराया। अफवाहों से रहें सावधान : एसपी पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने साफ कर दिया है कि बच्चा चोर सिर्फ अफवाह है। इससे लोग बचें, अगर कोई अफवाह फैलाता हुआ, सोशल मीडिया का दुरुपयोग करता हुआ पकड़ा जाएगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि अगर कोई संदिग्ध व्यक्ति दिखता है तो वीडियो जरूर बना सकते हैं, पुलिस को सूचना भी दें लेकिन उसके साथ मारपीट की जाएगी तो संबंधितों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

भिंड में एक महिला और एक बाबा पकड़ा

भिंड में भी बच्चा चोर गिरोह की अफवाह सिर चढ़कर बोल रही है। गत रोज रात्रि में वार्ड क्रमांक 11 से भीड़ ने एक महिला को बच्चा चोरी करके ले जाने के संदेह में पकड़ लिया। हालांकि इसके पास से बच्चा नहीं मिला और न ही किसी ने बच्चा चुराकर ले जाने की बात पुष्ट की। कोतवाली पुलिस ने इसे अपने कब्जे में लिया और पूछताछ के बाद छोड़ा। बुधवार की सुबह भिंड के लहार चुंगी रोड से एक बाबा को भी भीड़ ने पकड़कर देहात पुलिस के सुपुर्द किया। देहात पुलिस ने बाद में बताया कि यह बाबा चोर नहीं बल्कि नशेलची है।