मोमोता से हारे साई प्रणीत भारतीय चुनौती भी खत्म

मोमोता से हारे साई प्रणीत भारतीय चुनौती भी खत्म

टोक्यो। भारत के बी साई प्रणीत शनिवार को दुनिया के नंबर एक जापानी खिलाड़ी केंतो मोमोता की चुनौती को पार नहीं कर सके और 750,000 हज़ार डॉलर की ईनामी राशि वाले जापान ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पुरूष एकल सेमीफाइनल में हारकर बाहर हो गये, जिसके साथ ही टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती भी खत्म हो गई। प्रणीत टूर्नामेंट में किसी भी वर्ग के सेमीफाइनल तक पहुंचने वाले एकमात्र भारतीय खिलाड़ी थे। विश्व के 23वें नंबर के प्रणीत को शीर्ष वरीय मोमोता के हाथों 45 मिनट में लगातार गेमों में 18-21, 12-21 से शिकस्त झेलकर बाहर होना पड़ा। मोमोता अब रविवार को होने वाले फाइनल में छठी वरीय इंडोनेशिया के जोनाथन क्रिस्टिन से भिड़ेंगे। हालांकि गैर वरीय भारतीय खिलाड़ी और मोमोता के बीच इससे पहले करियर रिकॉर्ड 2-2 से बराबरी पर था लेकिन प्रणीत लगातार दो वर्षों से जापानी खिलाड़ी को हरा नहीं सके हैं। उन्हें वर्ष 2018 में विश्व चैंपियनशिप और वर्ष 2019 में सिंगापुर ओपन में जापानी खिलाड़ी ने हराया है जबकि प्रणीत ने मोमोता के खिलाफ अपने दो मुकाबले छह वर्ष पूर्व वर्ष 2013 में जीते थे। प्रणीत और मोमोता के बीच सेमीफाइनल मुकाबला हालांकि रोमांचक रहा और पहले गेम में 6-11 से पिछड़ने के बाद भारतीय खिलाड़ी ने लगातार पांच अंक लेकर 11-11 पर स्कोर बराबर कर दिया। हालांकि शीर्ष रैंक खिलाड़ी ने लगातार चार अंक लिये और 15-13 से बढ़त बनाते हुये पहला गेम जीता। दूसरे गेम में भी शुरुआत में दोनों के बीच अंकों के लिये काफी संघर्ष हुआ, लेकिन 5-5 की बराबरी के बाद प्रणीत फिर लय गंवा बैठे और मोमोता ने 14-12 के स्कोर के बाद लगातार सात अंक लेते हुए गेम और मैच ही समाप्त कर दिया।